Advertisement


करनाल (भव्य नागपाल): शुक्रवार को करनाल पुलिस द्वारा यातायात को लेकर पहला जीरों टालरेंस अभियान चलाया गया। इस अभियान के नोडल अधिकारी के रूप कार्य कर रहे उप-पुलिस अधीक्षक मुख्यालय राजकुमार ने स्वयं शहर भर में नाकों पर जाकर यातायात के नियमों की उल्लंघना करने वालों के चालान किए और लोगों को यातायात के नियमों की पालना करने के लिए गुलाब के फुल देकर जागरूक किया। इस अभियान के तहत पूरे जिले में कुल 30 स्थानों पर नाकाबंदी कर 1331 वाहन चालकों के चालान किए गए। अभियान के दौरान पुलिस कर्मीयों को भी नही बख्शा गया, जो पुलिसकर्मी यातायात के नियमों की उल्लंघना करते पाए गए उनके भी मोटर वाहन अधिनियम के तहत चालान किए गए।

आज से आप घर से बाहर निकले तो अपनी गाड़ी के कागजात रखे पूरे, दुपहिया वाहन चलाने वाले ज्यादा तर लोगो ने पहने हेलमेट और यातायात के नियम तोड़ने वालों पर कसे गी करनाल पुलिस शिकंजा। यहाँ हम आपको बता दें कि एसपी जश्नदीप सिंह रंधावा ने हर शुक्रवार को जीरो टालरेंस अभियान चलाने के निर्देश दिए थे। पुलिस अधीक्षक ने यातायात के नियमों की उल्लंघना करने वालों पर लगाम लगाने के लिए हर सप्ताह के शुक्रवार को सुबह 11 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक पूरे जिले में नाकाबंदी करके जीरो टोलरेंस अभियान चलाया जाएगा।इस पहले जीरो टालरेंस अभियान के मौके पर डी एस पी  राजकुमार द्वारा  लोगों को  फूल देकर यातायात के नियमो को लेकर दिशा-निर्देश दिए।

डी एस पी  द्वारा जिन लोगों ने हेलमेट नहीं पहन रखा था पहली बार उनको फूल देकर समझाया गया है आगे से वह अपनी सुरक्षा के लिए अपने सिर पर हेलमेट रूपी कवच धारण करें। इसके साथ साथ महिला पुलिस अधिकारी द्वारा महिलाओं को फूल देकर यह बताया है कि वह उनकी सुरक्षा उनके अपने हाथ में है यानी के हेलमेट को धारण करें और सुरक्षा हमेशा उनके साथ रहेगी उन्होंने कहा कि सड़क पर सुरक्षित चलने के लिए अनुषासित नियमों का गठन किया गया है, जिसकी पालन करना हर वाहन चालक के लिए अनिवार्य है। उन्होंने कहा कि इन नियमों की उल्लंघना करने वालों के लिए यातायात नियमावली में कुछ आर्थिक दंड का भी प्रावधान है। चालान करना पुलिस का मकसद नहीं बल्कि लोगों को सुरक्षित रखने के यातायात के नियामों की पालना करवाना पुलिस का प्रथम उदेष्य है। जिसके लिए आज जिला पुलिस कप्तान के आदेष अनुसार यह जीरों टालरेंस अभियान चलाया गया है।

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.