हरियाणा की बेटी ने एवरेस्ट पर लिख डाला बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश

0
Advertisement

 

 

Advertisement


हरियाणा की बेटी ने एवरेस्ट पर लिख डाला बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश , नेपाल और चीन दोनों तरफ से एवरेस्ट फ़तेह करने वाली देश की पहली महिला बनी अनीता कुंडू ,अगला लक्ष्य दुनिया की ऊंची सबसे 14 चोटियों पर तिरंगा लहराने का !

 

 

हरियाणा की बेटी अनीता कुंडू एवरेस्ट पर नेपाल और चीन दोनों तरफ से तिरंगा फहराने वाली पहली भारतीय महिला बन गई हैं ! हरियाणा पुलिस की सब इंस्पेक्टर और हिसार के किसान की बेटी अनीता ने इस बार चीन की तरफ से एवरेस्ट पर चढ़ाई कर यह उपलब्धि हासिल की है, इससे पहले वह सन 2013 में नेपाल की तरफ से एवरेस्ट पर तिरंगा फहरा चुकी हैं ! अनीता ने दो साल पहले वर्ष 2015 में भी चीन की तरफ से एवरेस्ट फतह करने का प्रयास किया था, लेकिन उस दौरान आए विध्वंसकारी भूकंप के कारण उन्हें 22 हजार फीट से वापस लौटना पड़ा था ! इसके बाद अनीता ने इस बार चीन की तरफ से एवरेस्ट फतेह करने का फिर से प्रयास किया और कामयाब रही !

 

 

आज करनाल में मिडिया से बातचीत में अनीता कुंडू ने बताया की उसने 11 अप्रैल को एवरेस्ट फतह का अपना मिशन शुरू किया, 41 दिनों तक बाद वह 21 मई सुबह सात बजकर 15 मिनट पर विश्व की सबसे ऊंची चोटी एवरेस्ट की 29 हजार फीट चोटी पर पहुंचीं और तिरंगा फहराया ! अनीता कुंडू ने कहा की जब चीन की ओर से एवरेस्ट फतह मिशन शुरू किया था तब टीम में कुल आठ सदस्य शामिल थे ! इसमें एक 22 हजार फीट की ऊंचाई से वापस आ गया था, उसके बाद चोटी के पास पहुंचने से पहले एक-एक करके पांच सदस्य वापस आ गए ! चोटी के पास पहुंचने से चंद कदम पहले आस्ट्रेलियाई पर्वतारोही की मौत हो गई, मिशन को पूरा करने में वे और उनका एक साथी कामयाब रहा ! अनीता के मुताबिक इस मिशन पर लगभग 30 लाख रुपये का खर्च आया है, जिसके लिए करीबन दस लाख रुपये की मदद सामाजिक संगठनों ने की और 20 लाख रुपये परिवार ने कर्ज लिया है ! उसने कहा की पिछली बार 2015 में एवरेस्ट पर बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ लिखने की हसरत अधूरी रह गई थी ! दो साल बाद अपने सपने को पूरा कर दिया, अपनी भूतकाल के बारे में उन्होंने कहा की वे जाट स्कूल की छात्रा थी ! इसके बाद जाट कॉलेज से बीए की , अनीता ने कहा की उसका अगला लक्ष्य दुनिया की ऊंची सबसे 14 चोटियों पर बेटी बचाओ बेटी, पढ़ाओ लिखकर तिरंगा लहराने का है ! एवरेस्ट फतह करने के लिए अनीता ने लगातार 30 घंटे तक चढ़ाई की ,एवरेस्ट फतह करने में यह सबसे खतरनाक था ! अनीता ने कहा की एवरेस्ट पर तिरंगा लहराने के लिए उसके पास महज कुछ घंटे का ही समय था ,यहां सबसे कम ऑक्सीजन होने के अलावा एवलांज आने की भी आशंका भी सबसे अधिक होती है !

 

 

एवरेस्ट को फतह करने के लिए 8 सदस्यों का दल निकला था, जिसमें अनीता अकेली महिला थी ! भारत की ओर से भी केवल अनीता कुंडू ही प्रतिनिधि थी , अनीता ने कहा की लड़किया किसी मायने में लड़कों से काम नहीं होती और वे सब कुछ कर सकती हैं जो कोई अन्य इंसान करता है , केवल हौसले और कड़ी मेहनत जरूरत है ! उन्होंने कहा की पर्वतारोहण को बढ़ावा देने के लिए हरियाणा सरकार ने उन्हें भरोसा दिलाया है ! वही उन्होंने कहा की पर्वतारोहन करने वालों के लिए भी कोई प्रोत्साहन निति बनाई जानी चाहिए !

Advertisement


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.