Advertisement


खेलों और खिलाडिय़ों को बढ़ावा देने के लिए हरियाणा सरकार बेहतरीन प्रयास कर रही है। इसी के दृष्टिगत सरकार द्वारा खेल महाकुंभ करवाने का निर्णय लिया गया है ताकि खिलाडिय़ों को अपनी प्रतिभा और जोश दिखाने के लिए अवसर मिल सके। यह बात उपायुक्त डा०आदित्य दहिया ने वीरवार को स्थानीय कर्ण स्टेडियम में हरियाणा स्वर्ण जयंती खेल महाकुंभ के अंतर्गत जिला स्तरीय खेल प्रतियोगिताओं के समापन एवं पुरस्कार वितरण समारोह के दौरान वहां उपस्थित खिलाडिय़ों को सम्बोधित करते हुए कही।
उपायुक्त ने इस मौके पर विजेता खिलाडिय़ों को स्वर्ण,रजत तथा कांस्य पदक देकर सम्मानित किया और कहा कि खेलों में हार-जीत तो लगी रहती है,लेकिन खेल हमारे शारीरिक,बौद्धिक तथा मानसिक विकास के साथ-साथ हमें अनुशासन में रहने की पे्ररणा देते है तथा खिलाड़ी एक टीम के रूप में मिल-जुलकर बेहतर प्रदर्शन के लिए प्रयास करते है। उन्होंने खिलाडिय़ों को उनके बेहतर प्रदर्शन की बधाई देते हुए भविष्य में भी बेहतर प्रदर्शन करने के लिए शुभकामनाएं दी और कहा कि जिला स्तर पर प्रथम,द्वितीय एवं तृतीय स्थानों पर आए खिलाड़ी आने वाले समय में प्रदेश स्तरीय खेल प्रतियोगिताओं में भी बेहतर प्रदर्शन करें तथा खेल महाकुंभ के समापन अवसर पर करनाल के लिए ज्यादा से ज्यादा पुरस्कार जीतकर अपने जिले का नाम रोशन करें।
उन्होंने खिलाडिय़ों को हरियाणा सरकार द्वारा दी जा रही खेल सुविधाओं की जानकारी देते हुए बताया कि हरियाणा को स्पोर्टस हब के रूप में विकसित करने के लिए हरियाणा खेल एवं शारीरिक उपयुक्तता नीति-2015 के पूरी तरह से अमल में लाए जाने से खिलाडिय़ों क ो बेहतर सुविधाएं मिल रही है। खिलाड़ी राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाले खेलों में पदक बटौर रहे है। हरियाणा सरकार इसी दिशा में अधिक आर्थिक बजट व सुविधाएँ उपलब्ध करवा रही है, जिससे नई प्रतिभाओं को अवसर मिले और हरियाणा एक अग्रणी खेल शक्ति के रूप में विकसित हो। सरकार की खेल नीति पर जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि सरकार की खेल नीति के तहत ओलम्पिक खेलों में स्वर्ण पदक विजेता को 6 करोड़ रूपये,रजत पदक विजेता को 4 करोड़ रूपये, कांस्य पदक विजेता को 2. 50 करोड़ रूपये के नकद पुरस्कार देने का प्रावधान है।
उन्होंने खिलाडिय़ों को जानकारी देते हुए आगे बताया कि सरकार ने एशियन खेलों में स्वर्ण पदक विजेता को 3 करोड़ रूपये,रजत पदक विजेता को 1.5 करोड़ रूपये, कांस्य पदक विजेता को 75 लाख रूपये के नकद पुरस्कार तथा प्रत्येक प्रतिभागी खिलाड़ी को 7 लाख 50 हजार रूपये कर दिए हैं जबकि कामनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक विजेता को 1.5 करोड़ रूपये,रजत पदक विजेता को 75 लाख रूपये, कांस्य पदक विजेता को 50 लाख रूपये के नकद पुरस्कार तथा प्रत्येक प्रतिभागी खिलाड़ी को 7 लाख 50 हजार रूपये देने का प्रावधान है।
इस मौके पर जिला खेल एवं युवा कार्यक्रम अधिकारी अनिल कुमार तथा खेल विभाग से संबंधित अन्य अधिकारी तथा भारी संख्या में खिलाड़ी मौजूद थे।
बॉक्स
जिला स्तरीय खेल प्रतियोगिताओं के समापन अवसर पर उपायुक्त के समक्ष रस्सा कस्सी ओपन महिला ग्रुप की प्रतियोगिता करवाई गई,जिसमें महिलाओं ने अपने दम-खम का परिचय दिया। इस प्रतियोगिता में गगसीना ए प्रथम,गगसीना बी द्वितीय तथा मोर माजरा की टीम तीसरे स्थान पर रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.