इग्नू अध्ययन केन्द्र 1064पी द्वारा इंडक्शन मीटिंग का आयोजन

0
Advertisement

बुद्धा काॅलेज आॅफ एजूकेशन के इग्नू अध्ययन केन्द्र 1064पी द्वारा आयोजित कार्यक्रम का संचालन, कार्यक्रम संचालिका मिस दीपाली ने किया। कार्यक्रम संचालिका ने इन कोर्सो से सम्बन्धित विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए इन कोर्सो की महत्ता तथा इन कोर्सो के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि शिक्षा प्रक्रिया को सही रुप से सही दिशा में चलाने के लिए इग्नू ने विभिन्न कोर्स स्थापित किए हैं।

जिसमे सर्टिफिकेट इन गाइडेंस, पी.जी.डी.इ.एम.ए., पी.जी.डी.एस.एल.एम., पी.जी.सी.ए.ई. तथा सी.पी.वी.ई. जैसे कार्यक्रम इस प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। अध्यापक का कार्य कक्षा को पढाना होता है। लेकिन कक्षा के बाहर भी उसे विभिन्न छात्रों की आवश्यकता के अनुसार उन्हें सही निर्देश देने की आवश्यकता होती है। इस कोर्स के माध्यम से छात्रों और अध्यापकों के बीच एक उचित संवाद स्थापित किया जा सकता है।

Advertisement


बुद्धा काॅलेज के प्राचार्य तथा इग्नू के प्रमुख डा. मौ. रिजवान ने इस कोर्स से सम्बन्धित अतिरिक्त जानकारी देते हुए कहा कि सर्टिफिकेट इन गाइडेंएस एक छमाही कोर्स है जिसकी परीक्षाएं वर्ष में दो बार जून और दिसम्बर में आयोजित की जाती है। इसके अतिरिक्त पी.जी.डी.ई.एम.ए. तथा पी.जी.डी.एस.एल.एम एक वर्षीय कोर्स हैं इनकी परीक्षाएं साल में एक बार होती हैं। उन्होंने बताया कि इग्नू द्वारा संचालित कोर्स जिसमें सभी प्रकार के प्रमाण पत्र, उपाधि, डिप्लोमा व स्नाकोतर उपाधि कार्यक्रम आज के समय के अनुसार रोजगार परक हैं।

उन्होंने आगे बताया कि पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन एजूकेशनल मैनेजमेंट एंड एडमिनिस्ट्रेषन तथा पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन स्कूल लिडरशिप एंड मैनेजमेंट जैसे कोर्स स्कूल अध्यापक एवं प्रिसिपल के लिए स्कूल के अच्छे प्रबन्धन एवं संचालन में बहुत उपयोगी साबित हो सकते हैं।

इग्नू द्वारा संचालित इन कोर्सो की फीस दूसरे विश्वविद्यालयों की तुलना में बहुत कम है तथा परीक्षा पद्धति बहुत ही लचीली है और कोई अधिकतम आयु सीमा नहीं है। विद्यार्थी इग्नू के किसी भी कोर्स में आॅन-लाईन आवेदन कर सकता है। अन्त में कार्यक्रम संचालिका मिस. दीपाली ने सभी का धन्यवाद किया।
कार्यक्रम संचालिका

Advertisement


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.