डीसी ने नवीनत्तम प्रणाली से बनाये जा रहे फाईव और थ्री पाउंड सिस्टम का निरीक्षण किया

0
Advertisement



उपायुक्त डा०आदित्य दहिया ने सोमवार को शहर की तर्ज पर ग्रामीण क्षेत्र में भी बेहतरीन सुविधाएं उपलब्ध करवाने के प्रयास जारी है। विभिन्न परियोजनाओं के तहत विकास कार्य करवाएं जा रहे है। गांव कुडक़ जागीर, भुखापुरी,खेड़ा और इंद्रगढ़ गांव में चल रहे फाईव पांउड सिस्टम के निर्माण कार्य पर लगभग 185 लाख रूपये की धनराशि खर्च की जा रही है। इस राशि से उक्त गांवों में फाईव पाउंड सिस्टम स्थापित किया जा रहा है। यह जानकारी डीसी डा०आदित्य दहिया ने गांव कुडक़ जागीर में फाईव पांउड सिस्टम के निर्माण कार्य का निरीक्षण करते हुए दी।
उन्होंने बताया कि गांव कुडक़ जागीर में फाईव पांउड सिस्टम बनाने के लिए लगभग 48 लाख रूपये की धनराशि खर्च किये जाने का प्रावधान है। यह पाउंड लगभग साढ़े चार एकड़ में बनाया जा रहा है। इस पाउंड का अधिक्तर निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया है।
यहां पर ओपन ऐयर जिम,पार्क व बैठने के लिए गैजिबों के साथ-2 रोशनी के लिए एलईडी लाईटस की भी सुविधा प्रदान की जाएगी। इसमें से अधिक्तर कार्य पूरा किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि ठोस कचरा प्रबंधन के तहत केंचुआ खाद बनाने के लिए भी यहां यूनिट स्थापित की गई है। भुखापुरी,खेड़ा और इंद्रगढ़ गांव में केंचुआ खाद यूनिट तथा अन्य प्रकार का कचरा एकत्रित करने के लिए लोहा,गत्ता,प्लास्टिक तथा कांच यूनिट भी बनाये जा रहे है। इस व्यवस्था के स्थापित होने से गांव में कूड़ा कर्कट के ढेर नहीं लगेगें और गांववासियों को एक बेहतर और स्वच्छ वातावरण मिलेगा।
डीसी ने गांव भुखापुरी में बनाये जा रहे फाईव पाउंड सिस्टम का भी दौरा किया फाईव पाउंड सिस्टम व थ्री पाउंड सिस्टम तथा ठोस कचरा प्रबंधन के तहत किये जा रहे कार्यो का निरीक्षण किया।  इस मौके पर उपायुक्त ने पंचायती राज के कार्यकारी अभियंता रामफल ने बताया कि इस गांव में लगभग चार एकड़ में बन रहे फाईव पाउंड सिस्टम पर लगभग 51 लाख रूपये की धनराशि खर्च होगी। उन्होंने डीसी को यह भी बताया कि कुडक़ जागीर और भुखापुरी में फाईव पाउंड व्यवस्था का कार्य आगामी 30 सितम्बर तक पूरा कर लिया जाएगा जबकि खेड़ा और इंद्रगढ़ में पाउंड सिस्टम स्थापित करने का कार्य 31 अक्तूबर तक पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने डीसी को यह भी बताया कि खेड़ा और इंद्रगढ़ में बनाये जा रहे  पाउंड सिस्टम स्थापित होने के बाद यहां भी गैजीबों ,पार्क के साथ-2 ठोस कचरा प्रबंधन की व्यवस्था की जाएगी। डीसी ने पंचायतों द्वारा किये जा रहे कार्यो की सराहना करते हुए कहा कि पंचायती राज संस्थाओं का प्रशासन को यह व्यवस्था स्थापित करने में बेहतरीन सहयोग मिल रहा है। पंचायतों के सहयोग से इस कार्य को अतिशीघ्र पूरा करने में मदद मिलेगी।
उन्होंने कार्यकारी अभियंता पंचायती राज सहित संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये कि जिन गांवों में फाईव पाउंड सिस्टम या फिर थ्री पाउंड सिस्टम बनाने का कार्य किया जा रहा है। इस कार्य को इस प्रकार किया जाए ताकि विदेशी पर्यटक भी इसका अनुसरण करें और यहां घूमने के लिए आये । ऐसा होने से ग्राम पंचायत के पास भी राजस्व आयेगा और पंचायत की ख्याति दूर तक जाएगी। अपने निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जब डीसी गांव खेड़ा पहुंचे तो वहां पर चल रहे कार्य से काफी प्रसन्न नजर आए। यहां बनाये जा रहे सिस्टम और मनरेगा के तहत भी कार्य किया जा रहा था। इसी गांव में ग्राम पंचायत के लोगों को सम्बोधित करते हुए डीसी ने कहा कि गांव के विकास में यह सिस्टम मील का पत्थर साबित होगा। इस कार्य पर लगभग 38 लाख रूपये की राशि खर्च होगी,लगभग तीन एकड़ में बनाये जा रहे इस पाउंड में अन्य पाउंडों की तरह सभी सुविधाएं उपलब्ध होगी। उन्होंने अधिकारियों को कहा कि इस स्थान पर तारबंदी अच्छी होनी चाहिए। पंचायतें गार्डनर और चौंकीदार की व्यवस्था भी करवाएं,प्रशासन उन्हें सहयोग करेगा। फाईव पाउंड में जहां जरूरत है,वहां अच्छी घास लगाई जाए और ओडीएफ हो चुके गांव ओडीएफ प्लस के लिए कार्य करें।
उपायुक्त अपने निरीक्षण के दौरान इंद्री के गांव इंद्रगढ़ पहुंचे। इंद्रगढ़ गांव में बन रहे थ्री पाउंड सिस्टम को देखा तथा अधिकारियों को कहा कि इसके निर्माण कार्य में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाए। निर्माण सामग्री सही मापदंड के अनुसार प्रयोग होनी चाहिए। गांववासियों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि इस सिस्टम के स्थापित होने से गांव के लोगों को घूमने के लिए पार्क इत्यादि की सुविधा मिलेगी साथ ही गांव के गंदे पानी की निकासी भी हो सकेगी। अन्य गांवों की तरह इस गांव में भी पाउंड सिस्टम के पानी को खेतों के लिए उपयोग में लाया जा सकेगा। उन्होंने यह भी बताया कि लगभग साढ़े तीन एकड़ में बन रहे इस पाउंड के लिए 48 लाख 17 हजार रूपये की धनराशि स्वीकृत की गई है। निर्माण कार्य तेजी से किया जा रहा है। इस मौके पर एडीसी निशांत यादव ने भी संबंधित ग्राम पंचायतों के साथ अपने अनुभव सांझे किये। दौरे के दौरान इंद्रगढ़ के सरपंच राजेश काम्बोज,खेड़ा की सरपंच प्रियंका काम्बोज,कुडक़ के सरपंच सुदेश शर्मा और भुखापुरी के सरपंच नीरज कुमार उपायुक्त को अपने-अपने गांव में मिले और विकास कार्यो को लेकर डीसी से बात की। डीसी ने कहा कि जरूरत पडऩे पर इन गांवों में डी प्लान के तहत विकास के लिए भी पैसा खर्च किया जाएगा। कार्यकारी अभियंता रामफल ने उपायुक्त को बताया कि जिला में 72 गांव/स्थानों पर पाउंड सिस्टम स्थापित करने के कार्य जारी है।
उपायुक्त ने इंद्रगढ़ गांव में ठोस कचरा प्रबंधन के कार्य के लिए खरीदे गए ट्रैक्टर व ट्राली को भी देखा जो कि देखने में बेहद आकर्षक व छोटा था। उपायुक्त ने कहा कि कचरा प्रबंधन के लिए घर-2 जाकर और गांव की गलियों से कूड़ा एकत्रित करने के लिए प्रशासन और पंचायत का यह एक अच्छा कदम है और गांव के लिए यह साधन उत्तम है।
डीसी की यह अपील रंग दिखाने लगी है कि बुके की बजाए उन्हें पुस्तकें दी जाए तो और बेहतर होगा। यह अपील डीसी ने गत सप्ताह बाल भवन की ई-लाईबे्ररी का दौरा करने उपरांत की थी। सोमवार को गांव खेड़ा की ग्राम पंचायत ने डीसी डा०आदित्य दहिया और एडीसी निशांत कुमार यादव को किताबें भेंट करते हुए कहा कि यह किताबें ग्राम पंचायत द्वारा पुस्तकालयों में रखने के लिए दी गई है। डीसी ने संबंधित अधिकारियों को कहा कि यह पुस्तकें बाल भवन की ई-लाईब्रेरी में रखवाना सुनिश्चित करें ताकि वहां पढऩे के लिए आने वाले लोगों को यह पुस्तकें उपलब्ध हो सके।
डीसी ने इंद्रगढ़ में चल रहे खेल स्टेडियम के निर्माण कार्य को भी देखा। यह स्टेडियम मुख्यमंत्री मनोहर लाल  की घोषणा के तहत बनाया जा रहा है। छ: एकड़ में बन रहे इस स्टेडियम के निर्माण कार्य पर 122 लाख रूपये की धनराशि खर्च होगी,इसका निर्माण कार्य इस साल के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा।




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.