विधानसभा में विधायक हरविंद्र कल्याण ने गंदे नाले और प्रदूषण का मुद्दा उठाया

0
Advertisement



करनाल। घरौंडा विधायक हरविंद्र कल्याण ने इस बार विधानसभा में करनाल से निकलने वाले गंदे नाले और फैक्टरियों के कारण से बढ़ रहे प्रदूषण का मुद्दा जोर शोर से उठाया। उन्होंने गंदे नाले के कारण क्षेत्र के कई गांवों में होने वाली जलभराव की समस्या के साथ साथ फैक्टरियों के प्रदूषण से होने वाली बीमारियों के समाधान के लिए ठोस कदम उठाए जाने की पुरजोर वकालत की।

घरौंडा विधायक हरविंद्र कल्याण ने विधानसभा में करनाल से निकलने वाले गंदे नाले की रिमॉडलिंग का मुद्दा उठाते हुए कहा कि करनाल से निकलने वाली पुरानी मुगल कैनाल जो कि करनाल से निकलकर ड्रेन नंबर वन के रूप में घरौंडा विधानसभा के गांव ऊंचासमाना, कुटैल, कैरवाली, फ़ैजअलीपुर माजरा, चोरा आदि गांवों के नजदीक से गुजरते हुए आगे जाती है लेकिन फैजअलीपुर माजरा के पास यह ड्रेन टूट जाती है जिससे काफी फसल हर वर्ष जलभराव के कारण खराब हो जाती है।

Advertisement


ड्रेन नंबर वन के ड्रेन नंबर टू के अंडरग्राडंड पाइपलाइन से जोड़ने का कार्य प्रगति पर है, इससे गंदे नाले से आने वाले पानी की निकासी की समस्या दूर हो जाएगी लेकिन बरसाती पानी के हल के लिए पूरे नाले की रिमॉडलिंग करने की जरूरत है जिसके लिए विधायक हरविंद्र कल्याण ने मुख्यमंत्री मनोहरलाल से अनुरोध किया है क्योंकि यदि इस नाले की रिमॉडलिंग होती है तो जहां बरसाती पानी से होने वाले जलभराव की समस्या से छुटकारा मिलेगा वहीं साथ लगते गांवों के पानी की निकासी की समस्या का भी हल होगा और इलाके के जमीनी पानी का स्तर भी सुधरेगा।

विधायक हरविंद्र कल्याण ने सदन में अपनी बात रखते हुए यह भी अनुरोध किया कि ड्रेन नंबर वन व इंद्री स्केप की चौड़ाई कई स्थानों पर बहुत कम है जिसके कारण बरसाती दिनों में यह पानी के बहाव का लोड नहीं उठा पाती जिसके चलते नाले की रिमॉडलिंग करके क्षमता बढ़ाने की जरूरत है।

विधानसभा में घरौंडा विधायक हरविंद्र कल्याण की मांग पर सरकार ने यह भरोसा दिलाया कि ड्रेन नंबर वन जो आगे जाकर कैरवाली गांव से पहले इंद्री स्केप ड्रेन में मिल जाती है उसकी रिमॉडलिंग के प्रपोजल को दोबारा से स्टडी, एग्जामिन किया जाएगा।

वहीं सदन के दूसरे दिन विधायक हरविंद्र कल्याण ने पानीपत व करनाल क्षेत्र की फैक्टरियों से हो रहे जल व वायु प्रदूषण की ओर सरकार का ध्यान आकर्षित कर इस दिशा में गंभीरता से काम करने की बात कही। उन्होंने सदन में प्रदूषण के विषय को स्वास्थ्य के साथ जोड़ते हुए प्रदेश के गृह व स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से भी आग्रह किया कि जिन जिन इलाको में फैक्टरियों के कारण बीमारियां बढ़ रही हैं वहां स्वास्थ्य विभाग के स्पेशल स्वास्थ्य जांच शिविर लगाए जाएं।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.