करनाल हाईवे से उत्तर प्रदेश की तरफ पशु तस्करी का चल रहा अनैतिक धंधा ,मरे हुए बैलों से भरा कंटेनर पकड़ा – देखें Live

1
Advertisement


देखें – Live – करनाल हाईवे से उत्तर प्रदेश की तरफ पशु तस्करी का चल रहा अनैतिक धंधा ,मरे हुए बैलों से भरा कंटेनर पकड़ा ,देखें Live – Share Video

CM सिटी करनाल में पुलिस ने पशु तस्करी के लिए जा रहे बैलों से भरा एक कंटेनर ट्रक पकड़ा , ट्रक में थे 19 बैल, 7 की मौत, 3 घायल , 9 को पहुंचाया गौशाला – लगातार करनाल के रास्ते हो रही है पशु तस्करी ,घायल बैल सेक्टर 32-33 थाने के बाहर तड़प रहे हैं ,देखें Live – Share Video

Advertisement


 






1 COMMENT

  1. प्रणाम संपादक महोदय,
    (श्री कमल @ करनाल ब्रेकिंग न्यूज़)

    मेरा नाम विश्व प्रताप गर्ग है और मेरे सहकर्मी देवेन्द्र परमार भगवान शिव के गुरू स्वरूप भगवान गुरू गोरखनाथ के अनुयायी हैं।

    आपकी पोस्ट “करनाल हाइवे से उत्तर प्रदेश की तरफ पशु तस्करी का चल रहा गोरख-धंधा” में पशुओं के उपर अत्याचार के मार्मिक विषय को सजगता से पेश किया जो स्वागतयोग्य है। साथ ही इस पोस्ट का शीर्षक “करनाल हाइवे से उत्तर प्रदेश की तरफ पशु तस्करी का चल रहा अनैतिक व अनाचारी धंधा” बेहतर वाक्य है।”गोरख-धंधा” शब्द अनुचित है।

    सर, अनन्त कोटि ब्रह्मांड नायक एक शिवलिंग स्वरुप महायोगी भगवान शिव गुरु स्वरूप में “गुरू गोरखनाथ” होते हैं। भगवान शिव को चाहें आप देवों के देव “महादेव” के रूप में पूजे या भक्त वत्सल “भोलेनाथ” के रूप में या फिर महायोगी भगवान शिव के गुरू स्वरूप “गुरू गोरखनाथ” के रूप में। वह तो हर रूप में शिव ही हैं और शिव ही रहेंगे जो सदैव भक्तजनों का कल्याण ही करते हैं कोई धंधा नहीं। भगवान शिव के अति पवित्र कल्याणकारी नाम भगवान गुरू “गोरख” को किसी घटिया धंधे से जोडने से लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचती है। और शिवजी की गरिमा का हनन भी होता है।

    विनती है अगर आप आगे से इस अवांछित शब्द के स्थान पर किसी बेहतर संज्ञा जैसे अनैतिक धंधा /अनाचारी धंधा अवैध धंधा/ अनैतिक धंधा / कालाबाजारी भ्रष्टाचार /भंवरजाल /मकड़जाल /घपला / गोलमाल / घोटाला / तिलिस्मी जाल/गडबडझाला /गडबडघोटाला इत्यादि जैसे शब्दों का प्रयोग करें और एक विज्ञप्ति जारी कर रिपोर्टिंग टीम को इस पहलू की ओर भविष्य में भी प्रयोग करने से बचें तो आपकी ज्वलंत पत्रकारिता उम्दा ही प्रतीत होगी। और पाठकगण एक जुडाव भी महसूस करेंगे।

    अलख निरंजन!!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.