बदलते मौसम व् ग्लोबल वार्मिंग के खिलाफ युवाओं की हुंकार – पर्यावरण बचाओ का दिया संदेश

0
Advertisement


बदलते मौसम व् ग्लोबल वार्मिंग के खिलाफ युवाओं की हुंकार, सडको पर उतर युवाओं ने लगाए पर्यावरण बचाओ के नारे हाथो में बैनर पकड़ रैली के माध्यम से दिया लोगो को संदेश, कहा ज्यादा से ज्यादा लगाए पोधे क्यूंकि आपके बच्चो का जीवन है आपके हाथ !

Advertisement


बदलते मौसम व् ग्लोबाल वार्मिंग के खिलाफ सीएम सिटी करनाल में युवाओं का यह कैसे प्रदर्शन हाथो में बैनर लेकर युवा उतरे सडको पर लोगो को जागरूक करते हुए पर्यावरण बचाओ का दिया संदेश !

आज हमारे घर में आग लगी है और हम सब आराम से सो रहे है बेबस है और पर्यावरण के गिरते स्तर पर मूक दर्शक बन कर बड़ी तबाही का इंतजार कर रहे है शायद बड़े बजुर्ग, नेता राजनितिक पार्टियों फेल हो चुकी है हम बच्चे वर्तमान व् भविष्य को लेकर बहुत चिंतित है हम चुप नही बैठेगे असम्भव शब्द हमारी शब्दावली में नही ये बोल थे उन युवाओं के जो आज सीएम सिटी करनाल की सडको पर उतरे और लोगो को जागरूक किया पर्यावरण को लेकर और साथ ही सभी से अपील की ज्यादा से ज्यादा पोधे लगाने की !

जिस तरह से आज देखा भी जा रहा है की आज मौसम में भारी बदलाव आ रहा है बारिश के मौसम में धुप तो धुप के मौसम में बारिश और ऊपर से बढ़ता प्रदुषण जो लोगो को चैन से जीने नही दे रहा जिसकी एक बड़ी वजह है इन्सान का प्रकति के साथ खिलवाड करना पेड़ो को काटना और अपने सुख के लिए प्रकृति को नुक्सान पहुचाना जो आने वाले समय में कारन बन सकता है ग्लोबल वार्मिंग का जिस कारण एक समय ऐसा आएगा जहा हम चैन से सांस नही ले पाएगे जिसको लेकर अब युवा जागरूक हो चुके है और इसी के मध्य नजर युवाओं ने हुंकार भरी की ज्यादा से ज्यादा लोगो को जागरूक करके पेड़ लगाने है तो वही साथ ही सभी देशो को आपस में मिलकर इसके बारे में सोचना चाहिए क्यूंकि यह मुद्दा किसी एक नागरिक और एक देश का नही !

16 वर्षीय आनन्या का कहना है की बढ़ते पोल्यूशन के चलते आज कई जगह ऐसी जहा लोग सांस ठीक से नही ले पा रहे कुदरत बार बार हमे संदेश दे रही है लेकिन हम उसके संदेश को नासुना कर रहे है और यही कारण है बार बार भूकम्प बाढ़ जैसी तस्वीरे सामने आती है !

Advertisement


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.