दिवंगत पुलिस कर्मचारी की पत्नी को मिली 15 लाख रुपये की राशी

0
Advertisement

आज दिनांक 14.10.2019 को पुलिस अधीक्षक सुरेन्द्र सिंह भौरिया पुलिस अधीक्षक करनाल द्वारा स्पैषल पुलिस ओफिसर(एस.पी.ओ) जगदीष चन्द्र वासी बरानी जिला करनाल के परिवार को 15 लाख चैक देकर उनके परिवार को आर्थिक मदद प्रदान की।

दिनांक 09.10.2018 को एस.पी.ओ जगदीष चन्द्र सिंह अपनी डयूटी कर मोटर साईकिल पर सवार होकर कुरूक्षेत्र जा रहा था गांव अमीन के पास किसी अज्ञात वहान द्वारा जगदीष चन्द्र को टक्कर मार दी जिस कारण उसको गम्भीर चोटें आई। उनका भिन्न अस्पतालो मे ईलाज चला, लेकिन तबीयत मे कोई सुधार नही होने पर दिनांक 19.02.2019 को फोर्टिस अस्पताल, गुरूग्राम में देहांत हो गया था।

Advertisement


आज मृतक की पत्नी श्रीमती गायत्री देवी व लडकी अमृता को पुलिस अधीक्षक करनाल द्वारा 15 लाख का चैक प्रदान किया गया यह चैक एच.डी.एफ.सी बैक द्वारा मृतक का सैलरी अकाउन्ट एच.डी.एफ.सी बैक होने पर मिले है। एच.डी.एफ.सी बैक ने पुलिस डिर्पोमेन्ट के सैलरी एकाउन्ट खोलते समय यह सुविधा प्रदान की थी की किसी भी पुलिस कर्मचारी जिसका अकाउन्ट हमारे बैक मे होगा उसके परिवार को दुर्घटना मृत्यू पर 30 लाख रूपये की सहायाता राषी प्रदान की जाऐगी। एस.पी.ओ के लिए यह राषी 15 लाख रखी गई है।

एच.डी.एफ.सी बैक के मुख्य नोडल अधिकारी राजीव मेहरा व उनके सहायक गुरतेज सिंह पुलिस कप्तान को बताया कि जब से एच.डी.एफ.सी बैक द्वारा पुलिस विभाग के कर्मचारियो के सैलरी अकाउन्ट खुले है बैंक द्वारा जिला पुलिस करनाल के 21 पुलिस कर्मचरियो के परिवारो को कुल 96 लाख 50 हजार आर्थिक मदद पहुचाई है।

उन्होने बताया कि साधारण मौत पर 2 लाख से बढ़ाकर 2.5 लाख रूपये किये गये है व दुर्घटना होने पर 10 लाख से बढाकर 30 लाख कर दी गई है। दुर्घटना में पुर्ण तरह से अपाहिज होने पर 30 लाख व आंषिक अपाहिज होने पर 5 लाख, हवाई यात्रा के दौरान मृत्यू होने पर 60 लाख रूपये की सहायता प्रदान की जाती है।

उन्होने कहा कि पुलिस कर्मचारियो को इस सम्बन्ध मे जागरूक किया जाऐ ताकि अनहोनी हो जाने पर उनके परिवार को उचित राषी बैक की और से प्रदान की जाऐ। इस बारे सुरेन्द्र सिंह भौरिया ने उनको आष्वासन दिया कि हम इस बारे पुलिस कर्मचारियो को जागरूक किया जाऐगा।

Advertisement


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.