थाने के सामने बिक रहीं थीं गर्भपात की गोलियां , दो गिरफ्तार – पंसारी व मेडिकल स्टोर संचालक एक हजार रुपये में बेच रहे थे एमटीपी किट

0
Advertisement



Live – देखें – थाने के सामने बिक रहीं थीं गर्भपात की गोलियां , दो गिरफ्तार – पंसारी व मेडिकल स्टोर संचालक एक हजार रुपये में बेच रहे थे एमटीपी किट ,देखें Live – Share Video

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने छापेमारी कर दोनों को रंगे हाथ पकड़ा, केस दर्ज करनाल के इंद्री में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पंसारी और मेडिकल स्टोर पर छापेमारी कर , 22 एमटीपी किट (गर्भपात की गोलियां) बरामद की है। इनमें पनसारी की दुकान थाने के गेट के सामने मेन बाजार में है तो वहीं पनसारी की दुकान से कुछ दूरी पर मेडिकल स्टोर है, जहां पर विभाग की टीम ने छापेमारी की है। पुलिस ने इस मामले में विशाल पंसारी व सुनील मेडिकल स्टोर संचालक को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। इंद्री थाना पुलिस ने केस दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।

Advertisement


डॉ. मनोज रंगा ने बताया कि सीएमओ डा. योगेश शर्मा को गुप्त सूचना मिली थी कि पंसारी की दुकान पर एमटीपी किट बेची जा रही है। पंसारी एक हजार रुपये में यह किट बेचता है। सूचना के आधार पर सीएमओ द्वारा एक टीम का गठन किया गया, जिसमें डॉ. मनोज रंगा, डॉ. सुरभी, दीपक, विशु शामिल थे। इस दौरान इद्री थाना प्रभारी सतपाल के साथ उनकी टीम का भी सहयोग लिया गया। आरोपी को पकड़ने के लिये एक नकली ग्राहक बनाया गया, जिसे एक 500 का, दो 200 के और एक 100 रुपये का नोट दिया गया।

ग्राहक विशाल पंसारी की दुकान पर पहुंचा जो मेन बाजार में है, वहां पर पंसारी ने उस नकली ग्राहक को एक हजार रुपये लेकर एमटीपी किट दे दी। इसी दौरान टीम ने छापा मारकर उसे पकड़ दिया। इस दौरान आरोपी विशाल ने बताया कि वह सुनील मेडिकल स्टोर से यह किट लेकर आता है। इसके बाद टीम ने उसकी तरह नकली ग्राहक बनाकर मेडिकल स्टोर पर भेजा और मेडिकल स्टोर संचालक सुनील को भी रंगे हाथों एक हजार रुपये में एमटीपी किट बेचते हुये पकड़ लिया।

आरोपी की तलाशी ली तो वहां से 20 और एमटीपी किट बरामद की गई। दोनों आरोपियों से 22 एमटीपी किट बरामद की गई है। इंद्री थाना प्रभारी सतपाल ने बताया कि आरोपियों से पूछताछ की जायेगी कि वह यह किट कहां से लेकर आते थे।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.