पुलिस अधीक्षक करनाल द्वारा अंतरराष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस पर युवाओं को नषे से दूर रहने के लिये किया गया प्रेरित, बताये नषे के दुष्परिणाम

0
Advertisement



पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र सिह भौरिया ने बताया कि जैसा कि आप सभी को विदित है कि हर वर्ष 26 जून को अंतरराष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस मनाया जाता है। नशीली वस्तुओं और पदार्थों के निवारण के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 7 दिसंबर 1987 को यह प्रस्ताव पारित किया था और तभी से हर साल लोगों को नशीले पदार्थों के सेवन से होने वाले दुष्परिणामों के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से इसे मनाया जाता है।

नशा, एक ऐसी बीमारी है जो कि युवा पीढ़ी को लगातार अपनी चपेट में लेकर उसे कई तरह से बीमार कर रही है। शराब, सिगरेट, तम्बाकू एवं ड्रग्स जैसे जहरीले पदार्थों का सेवन कर युवा वर्ग का एक बड़ा हिस्सा नशे का शिकार हो रहा है। आज फुटपाथ और रेल्वे प्लेटफार्म पर रहने वाले बच्चे भी नशे की चपेट में आ चुके हैं।

Advertisement


सुरेंद्र सिह भौरिया ने बताया कि लोग सोचते हैं कि वो बच्चें कैसे नशा कर सकते है जिनके पास खाने को भी पैसा नहीं होता। परंतु नशा करने के लिए सिर्फ मादक पदार्थाे की ही जरुरत नहीं होती, बल्कि व्हाइटनर, नेल पॉलिश, पेट्रोल आदि की गंध, ब्रेड के साथ विक्स और झंडु बाम का सेवन करना, कुछ इस प्रकार के नशे भी किए जाते हैं, जो बेहद खतरनाक होते हैं।

नशे की लत ने इंसान को उस स्तर पर लाकर खड़ा कर दिया है कि अब व्यक्ति मादक पदार्थों के सेवन के लिए किसी भी हद तक जा सकता है, वह नशे के लिए जुर्म भी कर सकता है। नशे के मामले में महिलाएं भी पीछे नहीं है। महिलाओं द्वारा भी मादक पदार्थों का बहुत अधिक मात्रा में सेवन किया जाता है। व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन में तनाव, प्रेम संबंध, दांपत्य जीवन व तलाक आदि कारण, महिलाओं में नशे की बढ़ती लत के लिए जिम्मेदार है।

इसलिये हमें अपनी आने वाली युवा पीढ़ी को नशे की आदत से बचाना चाहिए। ऐसे में माता पिता अपने बच्चों के संपर्क में रहे, उनसे बातचीत करें। अगर बच्चा नशे का आदी है तो उसको बड़े प्यार से हैण्डल करें। किसी अच्छे मनोचिकित्सक का सहारा लेकर उसकी काउंसलिंग करानी चाहिए। नशे को छोड़ने के लिए को प्रेरित करना चाहिए। और नषे से होने वाले दुष्प्रवाभों के बारे में उनको अवगत करवायें।

नशे के विरुद्ध जिला पुलिस करनाल द्वारा एक विशेष टीम एंटी नारकोटिक्स सेल का गठन किया गया है जो नशे की अवैध तस्करी के संबंध में धरपकड़ करती है। 1 जनवरी 2020 से दिनांक 24 जून 2020 तक करनाल पुलिस द्वारा नषे के कैप्सूल व गोलिया को प्रयोग करते हुये या तस्करी करते हुये कुल 06 व्यक्तियों को गिरफतार कर कार्यवाही की गई।

अतः आमजन से भी मैं विशेष निवेदन करना चाहूंगा कि नशे के विरुद्ध लड़ने में जिला पुलिस करनाल का सहयोग करें। नशे के बारे में आप हमारे पुलिस कंट्रोल नंबर 100 वह व्हाट्सएप नंबर 85708 85704 व एंटी नारकोटिक्स इंचार्ज के मोबाइल नंबर 8168489592 पर जानकारी दे सकते हैं। जानकारी देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.