कनाडा में शैक्षणिक आदान प्रदान के लिए गए करनाल के साथ सीबीएसई स्कूलों के प्रिंसिपल लोटे वापस , महत्वपूर्ण जानकारी की सांझा

0
Advertisement

शेयर करें।
  • 66
  •  
  •  
  •  
  •  
    66
    Shares

करनाल। कनाडा में शैक्षणिक आदान प्रदान के लिए गए करनाल के साथ सीबीएसई स्कूलों के प्रिंसिपल आज वापिस लौटने के बाद द एवेनटेरज कार्यालय में इक्क्ठा हुए और इस टूर से स बंधित महत्वपूर्ण जानकारी सांझा की। दल की सदस्य व ओपीएस विद्या मंदिर करनाल की प्रिंसिपल डॉ. जसजीत सूद ने बताया कि यह टूर बहुत से दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण रहा और इसका लाभ आने वाले दिनों में न केवल उनके स्कूल बल्कि अन्य स्कूलों के विद्यार्थियों को भी मिलेगा क्योंकि वे पूरी जानकारी को करनाल जिला के सभी स्कूलों से सांझा करेंगे।

Advertisement

उन्होंने बताया की 10 दिन के शैक्षणिक टूर में जहाँ कनाडा के नोवा स्कोशिया प्रान्त की केप ब्रिटॉन यूनिवर्सिटी का दौरा किया गया व वहां अकादमिक गतिविधियों के साथ साथ विद्यार्थियों के सर्वागीण विकास के लिए चलाये जा रहे कार्यक्रमों की जानकारी ली गयी, वहीँ भारतीय विद्यार्थियों से मिलकर उनके कनाडा में पढ़ाई के अनुभव को जानने का प्रयास किया गया। कनाडा दल के सदस्य जे पी एस अकादमी असंध के प्रिंसिपल मोहन सिंह व् दून इंटरनेशनल स्कूल की प्रिंसिपल जितेंदर कौर ने इस विजिट को अत्यंत लाभकारी बताते हुए कहा कि इस प्रकार के आदान प्रदान के कार्यक्रम चलते रहने चाहियें ताकि विद्यार्थियों को स्कूल में ही सही मार्गदर्शन मिल सके और वे फर्जी एजेंटों के चक्कर में अपना समय व् धन बर्बाद करने से बच सकें.

मेक्स इंटरनेशनल स्कूल की प्रिंसिपल पूनम पसरीचा व् नर सिंह दास पब्लिक स्कूल की प्रिंसिपल निशा गुप्ता ने बताया की उन्होंने केप ब्रिटॉन युनिवर्सिटी के साथ साथ कनाडा के खालसा क युनिटी स्कूल में भी विजिट कि और पाया की कनाडा के एजुकेशन सिस्टम में विद्यार्थियों पर बहुत ज्यादा बोझ नहीं डाला जाता व् कमजोर विद्यार्थियों को स्कूल में ही अलग से क्लास दी जाती है, ताकि वे बाकी विद्यार्थयों के समान पढ़ाई में आगे आ सकें।

वहां छोटी क्लास के लिए थिएटर स्टाइल में कुर्सी न लगाकर राउंड टेबल में 10-10 विद्यार्थियों को बिठाया जाता है, ताकि विद्यार्थी आपस में ज्यादा इंटरैक्टिव हो सकें. ब्रह्मऋषि पब्लिक स्कूल तरावड़ी के प्रिंसिपल राकेश शर्मा व् आदर्श पब्लिक स्कूल असंध के प्रिंसिपल रिशपाल राणा ने भी कनाडा के एजुकेशन सिस्टम की अच्छी बातों को अपने स्कूल में लागू करने की बात कही। उन्होंने बताया कि कनाडा में अधिकांश डिग्री व् डिप्लोमा कोर्सेज में गणित विषय का होना जरूरी है व्

इसकी जानकारी न होने के कारण बहुत से विद्यार्थी 10 +2 में अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद कनाडा में मन चाहे कोर्सेज में दाखिला नहीं ले पाते, इसलिए जो विद्यार्थी कनाडा पढऩा चाहते हैं, उन्हें शुरू से ही गणित विषय को जरूर लेना चाहिए। दल का नेतृत्व कर रहे द एवेनटेरज के प्रबंध निदेशक व् निफा अध्यक्ष प्रितपाल सिंह पन्नू ने एक बड़ी घोषणा करते हुए बताया कि आगामी जून माह की छुटियों में करनाल के विभिन्न स्कूलों के विद्यार्थियों व् अध्यापकों का एक दल शैक्षणिक आदान प्रदान के लिए कनाडा जायेगा व् जल्दी ही कनाडा से विद्यार्थियों व् अध्यापको का एक दल भारत भी आएगा।

उन्होंने इस 10 दिवसीय टूर का जिक्र करते हुए बताया कि दल के सभी सदस्यों के लिए विदाई का समय यादगार रहेगा क्योंकि कनाडा के टोरंटो में रहने वाले हरियाणवी मूल के प्रवासी भारतियों ने विशेष समारोह का आयोजन कर सभी को सुखद आश्चर्य से भर दिया। कनाडा में हरियाणवी मूल की एकमात्र संस्था हरियाणा कल्चरल एवं स्पोट्र्स क्लब की और से मिसिसागा शहर के इंडिया टेस्ट रेस्टोरेंट में दल के स मान में एक विशेष विदाई भोज व् स मान समारोह का आयोजन किया गया.

करनाल मूल के प्रवासी भारतीय व् हरियाणा कल्चरल एवं स्पोट्र्स क्लब कनाडा के पदाधिकारी करमजीत सिंह मान, जो असंध विधयक ब शीश सिंह के भांजे हैं को जब करनाल से प्रिंसिपल के दल व निफा अध्यक्ष प्रितपाल सिंह पन्नू के आने का पता चला तो उन्होंने विशेष रूप से बात कर इस समारोह कर आयोजन किया जिसमे हरियाणा मूल के प्रवासी भारतियों की और से दल के सभी सदस्यों को स्मृति चिन्ह व प्रशश्ति पत्र देकर स मानित किया गया।

कनाडा पार्लियामेंट के सदस्य सांसद रमेश संघा व कनाडा प्रोविंशियल पार्लियामेंट के सदस्य विधायक परम गिल ने अपने हाथों से ये स मान दिया व इस टूर के मकसद की भरपूर प्रशंसा की। दल के सभी सदस्यों को उस समय अत्यंत ख़ुशी व् गर्व का एहसास हुआ जब कनाडा के सांसद रमेश संघा ने हाउस ऑफ़ कॉमन्स कनाडा की विशेष मोहर के साथ अपने हस्ताक्षरों सहित सभी को प्रशश्ति पत्र सौंपे.

निफा अध्यक्ष प्रितपाल सिंह पन्नू ने उन्हें आगामी भारत दौरे के दौरान करनाल आने का निमत्रण दिया, जिसे उन्होंने सहर्ष स्वीकार किया और उ मीद जाहिर की कि इस शैक्षणिक आदान प्रदान से प्राप्त जानकारी का लाभ भारत के विद्यार्थियों के होगा और उन्हें एजेंटो के चंगुल में फंसने की बजाय जायज तरीके से कनाडा आने के लिए प्रोत्साहित किया जायेगा। करनाल लौटे प्रिंसिपल के दल ने बताया कि उन्हें कनाडा के हर व्यक्ति से भरपूर प्यार मिला है।

कनाडा के पंजाबी समुदाय की संस्था कलम ने भी ब्रा पटन शहर के अजीत भवन में दल के स्वागत में एक समारोह रखा जहाँ साहितियक जगत से जुड़ी भारतीय कनाडियन हस्तियों के समक्ष सभी का स मान किया गया. द एवेनटेरज कंपनी के निदेशक हरमिंदर सिंह ने कहा कि उनका संसथान आगे भी इसी प्रकार के शैक्षणिक आदान प्रदान के कार्यक्रम आयोजित करता रहेगा व जल्दी ही ऑस्ट्रेलिया के साथ भी टूर बनाया जाएगा।


शेयर करें।
  • 66
  •  
  •  
  •  
  •  
    66
    Shares
Advertisement




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.