दूसरे दिन भी धरना देकर सरकार के खिलाफ जमकर की नारेबाजी

0
Advertisement

भारतीय मजदूर संघ व हरियाणा राज्य कर्मचारी संघ के सैंकड़ों महिला-पुरुष कर्मचारियों में आज दूसरे दिन भी लघु सचिवालय के समक्ष धरना दिया और सरकार के खिलाफ रोष प्रदर्शन करते हुए जमकर नारेबाजी की। धरने की अध्यक्षता भारतीय मजदूर संघ के उपाध्यक्ष जंग बहादुर यादव ने की, जबकि संचालन हरियाणा राज्य कर्मचारी संघ के प्रदेश संयोजक कृष्णलाल गुर्जर ने किया। आज दूसरे दिन धरना पानीपत जिले के कर्मचारियों एवं श्रमिकों ने दिया और सरकार विरोध जोरदार नारेबाजी की।

धरने को संबोधित करते हुए मामसं के प्रदेशाध्यक्ष वेदप्रकाश सैनी व प्रदेश संगठन मंत्री जंग बहादुर यादव ने सरकार की कर्मचारी एवं श्रमिक विरोधी नीतियों का खुलासा करते हुए कहा कि सरकार जानबूझकर कर्मचारियों एवं श्रमिकों की मांगों को लागू न करके टकराव का रास्ता अपनाए हुए है, जिसके विरोध में संयुक्त अनिश्चिकालीन धरना करनाल में देने पर विवश होना पड़ा।

Advertisement


उन्होंने कहा कि कच्चे कर्मचारियों को पक्का करनाल, समान काम-समान वेतन देना, शुगर मिल, परिवहन, सफाई कर्मचारी, दमकल कर्मचारी, फायरमैन व चालक, पीडब्ल्यूडी, शिक्षा, पैक्टस, आंगनवाड़ी, मीड-डे-मिल, कम्प्यूटर प्रोफेशन संघ, अनुबंधित विद्युत कर्मचारियों सहित विभिन्न विभागों में अनेक मांगों को लेकर तमाम जिलों से कर्मचारी करनाल में धरने पर पहुंचे हैं और जब तक उनकी मांगों को समाधान नहीं किया जाता तब तक उनका धरना जारी रहेगा।

सभा को प्रदेश संयोजक कृष्णलाल गुर्जर व वीरेन्द्र कुमार ने संबोधित करते हुए बताया कि वर्तमान भाजपा सरकार भी पूर्व सरकारों की तरह ही कर्मचारी विरोधी साबित हुई है। यह सरासर कर्मचारियों की मांगों को अविलम्ब लागू करे अन्यथा यह धरना एक बड़े आंदोलन में बदल जाएगा।

जिसका खामियाजा सरकार को भुगतना पड़ेगा। आज के धरने में कृष्ण कुमार प्रदेश कोषाध्यक्ष परिवहन विभा, विरेन्द्र कुमार, ऋषिपाल छोकर, राजपाल छोक्कर, अशोक रावल, नरेन्द्र कुमार, अमित कुमार, जसवीर सिंह, विजय लक्ष्मी आंगनवाड़ी यूनियन, धीरज कुमार, कुलदीप, जसबीर मान थर्मल पावर व अनिता दहिया, सीमा देवी, कुलदीप कौर, किरण बाला आदि उपस्थित रहे।

Advertisement


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.