कार्नीवाल में डायनासोर से रूबरू हुए स्कूली बच्चे

0
Advertisement


शेयर करें।
  • 120
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    120
    Shares

द मिलेनियम स्कूल, करनाल में बच्चों को कार्निवाल के अन्तर्गत मिनी जुरैसिक पॉर्क से रूबरु करवाया गया। इस कार्निवाल में करनाल के लगभग 20 स्कूलों के करीब 450 बच्चों ने हिस्सा लिया। कार्निवाल का शुभारंभ प्रधानाचार्या कल्पना लाठर व स्कूल के चेयरमैन कुणाल भादू द्वारा किया गया। इस कार्निवाल का मुख्य आकर्षण विशालकाय डायनासोर रहा जो कि 20 से 30 फूट लंबा था। डायनासोर को देखकर सभी उत्सुक नजर आ रहे थे।

Advertisement


डायनासोर के जीवन पर आधारित बहुत ही रोचक गतिविधियां करवाई गई। कार्निवाल  में बच्चों को विभिन्न प्रकार की  डायनासोर कैप्स बनाने के लिए पे्ररित किया गया। वहीं दूसरी ओर कार्निवाल में कारपेन्टरी के द्वारा बच्चों ने अध्यापिका की सहायता से विभिन्न डायनासोर की  आकृतियों  का निर्माण किया। रोबोटिक्स  के माध्यम से  बच्चों को भविष्य की आधुनिक दुनिया से अवगत कराया गया।

इसमें बच्चों ने लिगोकिट्स की सहायता से सी-सॉ, स्पिन टॉप, गोल कीकर और हंगरी एलीगेटर की प्रोग्रामिंग सीखी। शो और टैल प्रतियोगिता भी आकर्षण से अछूती नहीं रही।  इस  प्रतियोगिता  में बच्चों में  भरपूर आत्मविश्वास दिखा और उन्होंने मंच पर अपने चरित्र को बेहतर ढंग से प्रस्तुत किया। जब तक किसी भी आयोजन में स्वादिष्ट व्यंजन ना हो तो आयोजन अधूरा सा लगता है, कार्यक्रम को संपन्न बनाने के लिए डायनासोर की आकृतियों से विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाए गए व बच्चों को सिखाए गए।

इस मौके पर मंच के माध्यम से बच्चों ने कई रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए, जिसमें बालीवुड, हरियाणवी व पंजाबी गीतों पर नृत्य प्रस्तुत किया गया। इसके अलावा बेबी शो, फैशन शो सहित कई प्रतियोगिताएं कराई गई। विजेता प्रतिभागियों को स्कूल चेयरमैन कुणाल भादू द्वारा सम्मानित किया गया। स्कूल के चेयरमैन कुणाल भादू ने कार्निवाल की सफलता के लिए स्कूल के स्टाफ की सराहना की।

उन्होंने कहा कि चाइल्ड सेंट्रिक एजुकेशन को उनके विद्यालय में विशेष स्थान दिया गया है क्योंकि इस प्रकार की एजुकेशन बच्चें के उन सर्वश्रेष्ठ गुणों को विकसित करती है, जो बच्चें के शरीर, मष्तिष्क और आत्मा में विघमान होते हैैैं और इन्हीे गुणों को उभारने  में स्कूल का विशेष योगदान होता है।

प्रधानाचार्या कल्पना लाठर ने सभी का धन्यवाद करते हुए कहा कि अध्यापकों, बच्चों और अभिभावकों के सामूहिक योगदान की वजह से यह कार्निवाल सफल रहा। आने वाले समय में परस्पर सहयोग की कामना करते हुए हम इसी तरह के कार्यक्रमों का आयोजन करते रहेंगे।


शेयर करें।
  • 120
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    120
    Shares
Advertisement









LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.