पेंशन लाभपात्रों की गलतियों को सुधारने के लिए ज़िला प्रशासन लगाएगा विशेष शिविर

0
Advertisement


शेयर करें।
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

करनाल (भव्य नागपाल): जिन पेंशनधारकों की पेंशन अस्थायी तौर पर रोक दी गई है ऐसे कुल 16803 लाभपात्रों की त्रुटियों के निवारण के लिए एक और मौका दिया जा रहा है। इसका ऐलान ज़िला उपायुक्त डा०आदित्य दहिया ने किया। उपायुक्त ने बताया कि करनाल में सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजनाओं के तहत पेंशन डाटा में जिन लाभ पात्रों की आधार संख्या गलत दर्ज है अथवा हरियाणा राज्य से बाहर के है अथवा आधार तकनीकी रूप से गलत है या फिर एक से अधिक पेंशन आईडी पर एक ही आधार जुड़ा हुआ है, ऐसे कुछ लाभपात्रों की पेंशन अस्थायी तौर पर रोक दी गई है। इन सभी प्रकार की त्रुटियों के निवारण के लिए आगामी 29 सितम्बर तक प्रतिदिन प्रात: 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक जिला के प्रत्येक खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी/नगर पालिका/नगर निगम के कार्यालय में विशेष शिविर लगाए जाएंगे।

Advertisement


उपायुक्त ने आमजन से अपील की कि वे इन शिविरों में अपने आधार कार्ड सहित तथा आधार की साफ फोटोस्टेट कापी लेकर स्वयं अपने आधार की जांच करवा सकते है तथा जिन लाभपात्रों के आधार कार्ड हरियाणा राज्य से बाहर के है, वे अपना हरियाणा अधिवासी प्रमाण पत्र(डोमिसाईल) भी इसी शिविर में जमा करवाएं। ऐसे सभी लाभपात्रों के आधार अनुसार पेंशन डाटा में उचित त्रुटियां दूर करके रोकी गई पेंशन भी आधार कार्ड देने उपरांत शीघ्र जारी कर दी जाएगी। इसके अतिरिक्त यदि कोई लाभपात्र किसी कारणवश इन शिविरों में अपने आधार जमा नहीं करवा सकें,तो वे आगामी 3 अक्तूबर से 31 अक्तूबर तक जिला समाज कल्याण अधिकारी करनाल के कार्यालय में अपना आधार जमा करवा सकते है। यदि कोई लाभपात्र 31 अक्तूबर तक भी अपना आधार अपडेट नहीं करवाएगा तो उसकी पेंशन काट दी जाएगी तथा उसे पुन: नया आवेदन पत्र जमा करवाने पर ही पेंशन का लाभ दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि आमजन को इस संबंध में किसी भी प्रकार की असुविधा ना हो इसके लिए जिला के सभी ग्राम सरपंचों तथा शहरी क्षेत्र के सभी वार्ड पाषर्दों को रोकी गई पेंशन लाभपात्रों की सूचियां उपलब्ध करवा दी गई है।

 


शेयर करें।
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Advertisement









LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.