सुरेश रैना और पत्नी प्रियंका चैधरी रैना की फाउन्डेशन ने जेल में महिलाओं के लिए एक प्रजनन स्वास्थ्य और मानसिक कल्याण कार्यक्रम किया

0
Advertisement


शेयर करें।
  • 32
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    32
    Shares

करनाल, हरियाणाः क्रिकेटर सुरेश रैना और पत्नी प्रियंका चैधरी रैना के ग्रेसिया रैना फाउंडेशन ने 12 अप्रैल, शुक्रवार को हरियाणा की करनाल जेल में रहने वाली महिलाओं के लिए एक प्रजनन स्वास्थ्य और मानसिक कल्याण कार्यशाला आयोजित की। फाउंडेशन के #EveryMother कार्यक्रम के अंतर्गत आयोजित कार्यशाला में प्रियंका के नेतृत्व में 70 महिलाओं ने भाग लिया और डॉ. निवेदिता रायजादा, वरिष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ रेनबो हॉस्पिटल नई दिल्ली और सुश्री केशव शर्मा साइको-ऑन्कोलॉजिस्ट, फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट, गुड़गांव में शामिल रही।

Advertisement


सुधार प्रशासन संस्थान के उप निदेशक डॉ. उपनीत लाली द्वारा किए गए एक शोध अध्ययन में, यह पाया गया कि महिलाओं की जेलों में विशेषज्ञ स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी है। इन महिलाओं की शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य जरूरतें पूरी नहीं हो पाई हैं, क्योंकि स्त्री रोग विशेषज्ञ नियमित रूप से उपलब्ध नहीं होते हैं।

डॉ. उपनीत लाली ने कहा,“यह वास्तव में महिलाओं के प्रजनन और मानसिक स्वास्थ्य पर एक खुली चर्चा का आयोजन करने के लिए एक कदम है जो कई वर्षों से उपेक्षित क्षेत्र बना हुआ है। हम वास्तव में इस मुद्दे को हल करने के लिए ग्रेसिया रैना फाउंडेशन के साथ सहयोग के साथ आशान्वित हैं और हिरासत में रह रही महिलाओं के जीवन में सुधार के लिए अध्ययन के आधार पर वैचारिक मापदंड लेने करने का प्रयास करते हैं।”

जेल चुनौतीपूर्ण हो सकते हैं, विशेष रूप से उन महिलाओं के लिए जो अपने परिवारों और बच्चों से वर्षों से दूर रहे हैं और जहां वे रह रही हैं वो जगह भी सीमित हैं और स्वच्छता और वेंटिलेशन भी। एक महिला की प्रजनन और यौन स्वास्थ्य प्रणालियां पहले से ही नाजुक हैं और इन स्थितियों ने उसे कुछ बीमारियां होने का जोखिम अधिक रहता है।

इसलिए, यह वास्तव में महत्वपूर्ण है कि असंतुष्ट महिलाओं को सही ज्ञान प्रदान किया जाता है ताकि वे अपनी मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य आवश्यकताओं का बेहतर ढंग से आकलन कर सकें और एक बार रिहा होने के बाद उचित रूप से अपने स्वास्थ्य का ध्यान रख सकें।

इस सत्र का समापन प्रियंका द्वारा किया गया, जिन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि महिलाओं के लिए एक सुधारात्मक सुविधा में रहते हुए नए कौशल प्राप्त करने पर ध्यान केंद्रित करना कितना महत्वपूर्ण है ताकि वे एक अच्छी नौकरी पाने, पैसा कमाने और स्वतंत्र होने में सक्षम हों।

उन्होने कहा, ”मुझे पता है कि जब आप जेल में आते हैं, तो आप कुछ अधिकारों को छोड़ देते हैं, लेकिन अपने स्वास्थ्य की कीमत पर ऐसा नहीं करना चाहिए। नहीं, मैं यहां इस बारे में जानकारी साझा करने के लिए आई हूं कि आप अपने प्रजनन और मानसिक स्वास्थ्य की बेहतर देखभाल कैसे कर सकती हैं। यहां ज्यादातर महिलाएं हैं। युवा हैं और यह सही उम्र है कि आप अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दें, सकारात्मक रहें और एक-दूसरे का सहारा बनें।”

#EveryMother कार्यशाला का आयोजन एक मंच के साथ उनकी सहायता के लिए किया गया था जहाँ वे अपनी विभिन्न चुनौतियों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकें और आपसक में सांझा कर सकें। कार्यशाला में स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने पोषण, मासिक धर्म स्वास्थ्य और रजोनिवृत्ति, गर्भावस्था और परिवार नियोजन, स्तन और ग्रीवा कैंसर, और शरीर की स्वच्छता के साथ आत्म-देखभाल जैसे विषयों पर बात की।

अब तक #EveryMother ने दिल्ली और उत्तर प्रदेश के शहरों में रहने वाली माताओं को प्रभावित किया है। यह एक अखिल भारतीय कार्यक्रम है जो जल्द ही कई राज्यों तक पहुंच जाएगा।

ग्रेसिया रैना फाउंडेशन की स्थापना 2017 में सुरेश रैना और प्रियंका चैधरी रैना द्वारा महिलाओं को सशक्त बनाने के एक सरल लक्ष्य के साथ की गई थी, और अपने प्रजनन चरण के दौरान और अंत में, उन्हें जानकारी और जागरूकता प्रदान करना जिससे भविष्य में वे  प्रजनन और मातृ स्वास्थ्य उन्मुख निर्णय लेने में सक्षम हो सके।

जब वह किशोरावस्था में होती है तो एक महिला सबसे कमजोर होती है, और ये वो समय है जहां हमारा काम शुरू होता है कि उनकोे एक ठोस स्वास्थ्य आधार प्रदान किया जाये। इस समय के दौरान वह विभिन्न प्रजनन स्वास्थ्य परिवर्तनों का अनुभव करती है जिन्हें जानकारी सांझा करके इसे सामान्य किया जा सकता है।

मातृ कल्याण को बढ़ावा देने के लिए जीआरएफ सांस्कृतिक रूप से संवेदनशील जागरूकता कार्यक्रमों को करता रहता है आगे महिलाओं में मातृ-शिशु देखभाल गरिमाशीलं सहायता मिले।

हम क्या करने की उम्मीद कर रहे हैं? सुनिश्चित करें कि माताओं को गर्भावस्था से संबंधित चुनौतियों के बारे में अच्छी तरह से पता चले, जिसके परिणामस्वरूप प्रसन्न और स्वस्थ बच्चे पैदा होते हैं।


शेयर करें।
  • 32
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    32
    Shares
Advertisement









LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.