करनाल सेक्टर 14 मोड़ हरियाणा नर्सिंग होम से रेलवे रोड़ विक्रम मार्ग तक बनाया जायेंगा फ्लाई ओवर , भारी ट्रैफिक जाम से मिलेगी निजात

0
Advertisement



  • करनाल सेक्टर 14 मोड़ हरियाणा नर्सिंग होम से रेलवे रोड़ विक्रम मार्ग तक बनाया जायेंगा फ्लाई ओवर , भारी ट्रैफिक जाम से मिलेगी निजात
  • स्मार्ट सिटी के तहत 95 करोड़ रूपये की लागत से बनेगा फ्लाई ओवर, किसी की दुकान व मकान का नहीं होगा कोई नुकसान

करनाल उपायुक्त एवं केएससीएल के सीईओ निशांत कुमार यादव ने बताया कि करनाल स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत शहर के मुख्य बाजार के नजदीक कमेटी चौंक पर ट्रैफिक व्यवस्था एवं यातायात को सुचारू बनाने के लिए, रेलवे रोड़ स्थित विक्रम मार्ग से लेकर हरियाणा नर्सिंग होम नजदीक सेक्टर-6 चौंक तक फ्लाई ओवर का निर्माण करवाया जाना प्रस्तावित है।

इस पुल के निर्माण के लिए स्मार्ट सिटी पैसा देगा और पीडब्ल्यूडी बनायगा। जिस पर अनुमानित 95 करोड़ रूपये की लागत आएगी। फ्लाई ओवर सिंगल पिलर पर बनेगा और पिलर डिवाईडर पर बनाया जाएगा। इसके बनने से किसी की जमीन, दुकान व मकान को किसी प्रकार का नुकसान नहीं होगा। फ्लाई ओवर दो लेन का होगा।

Advertisement


उन्होंने बताया कि करनाल शहर के मुख्य कमेटी चौंक के पास रोजाना ट्रैफिक जाम की स्थिति बनी रहती है। इस समस्या का स्थाई समाधान करने के लिए करनाल स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत एक सर्वे कराया गया, जिसमें पाया गया कि प्रत्येक दिन इस चौंक से करीब 10 हजार वाहनों का आवागमन रहता है, जिन्हें पुलिस द्वारा कंट्रोल किया जाना भारी पड़ता है। यह समस्या काफी लम्बे समय से चली आ रही है।

उन्होंने बताया कि रेलवे रोड़ के साथ फ्लाई ओवर के निर्माण की प्रोपोजल मुख्यमंत्री मनोहर लाल के संज्ञान में लाई गई थी, तथापि उन्होंने इसकी फिजिबिल्टी पर गौर करने के निर्देश दिए थे। इसके उपरांत इंजीनियर्स की एक टीम ने इस स्थल का दौरा कर इस कार्य की प्रारम्भिक सूचना एकत्र की, जिसमें पाया गया कि सडक़ के साथ लगते स्पेस में, विक्रम मार्ग से इसकी शुरूआत की जा सकती है और यह हरियाणा नर्सिंग होम तक बनाया जा सकता है।

यह लगभग 2.1 किलो मीटर लम्बा फ्लाई ओवर रहेगा। नये प्रस्तावित फ्लाई ओवर से कमेटी चौंक पर वाहनों की भीड़ कम होगी, यातायात सुगम होगा और शहर में लोगों के जीवन स्तर में सुधार आएगा।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.