छोटी मुहिम बनी बड़ा आंदोलन ,समर्पण मानव सेवा समिति का पौधारोपण अभियान जारी

0
Advertisement


शेयर करें।
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

करनाल समर्पण मानव सेवा समिति द्वारा चलाया गया पौधारोपण अभियान आज एक कारवां बन गया है। समिति द्वारा 24 फरवरी को इस अभियान की छोटी सी शुरूआत की गई थी लेकिन यह छोटी शुरूआत आज तक नहीं रूकी और आज एक बड़े आंदोलन के रूप में करनाल में अपनी पहचान बना चुकी है। 24 फरवरी से लगातार इस अभियान को समिति द्वारा जारी रखा गया है।
इसी अभियान के तहत आज सैक्टर-9 पार्क में पौधारोपण किया गया। समर्पण मानव सेवा समिति के अध्यक्ष दिलबाग कादियान की अध्यक्षता में यह कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। इस मौके पर मौजूद समिति सदस्यों व सैक्टर निवासियों को सम्बोधित करते हुए दिलबाग कादियान ने कहा कि हम पैदा होने से लेकर मरने तक प्रकृति पर निर्भर रहते है। वैसे तो हम प्रकृति का कर्ज कभी उतार नहीं सकते लेकिन पौधारोपण कर कुछ कम जरूर किया जा सकता है। हम अधिक से अधिक पेड़-पौधे लगाकर अपनी आने वाली पीढिय़ों को सुरक्षित कर सकते हैं।
दिलबाग कादियान ने कहा कि पेड़-पौधे हमें सिर्फ हवा, पानी, छाया, फल और लकड़ी ही नहीं देते बल्कि हमें बेहतर जीवन जीने की प्रेरणा भी देते हैं। हम किसी पेड़ को अगर पत्थर भी मारते हैं तो वो हमें फल ही देता है। कटने के बाद भी हमें लकड़ी देता है और जीते जी हमें प्राणरूपी आक्सीजन देता है।
कार्यक्रम में मौजूद भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के जिला अध्यक्ष सतीश राणा कैरवाली ने समर्पण मानव सेवा समिति की मुहिम की तारीफ करते हुए कहा कि समिति न केवल पौधारोपण कर समाज का भला कर रही है अपितु समाज सेवा के कार्योंे में भी समिति अग्रणी कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि बात चाहे गरीब बच्चों की शिक्षा को लेकर हो या जरूरतमंद के ईलाज की, समिति के सदस्य हर जरूरतमंद की सहायता में हमेशा तैयार रहते हैं। उन्होंने कहा कि वह हमेशा समिति द्वारा समाज सेवा के कार्यों में उनके साथ तन-मन-धन से हैं।
इस मौके पर अनिल चौहान, मनोज संधू, श्याम मदान, पुष्पेन्द्र मलिक, सुरेन्द्र मान, साहिल चड्ढा, राजीव, वीरेन्द्र टाया, गौरव मैहला, संदीप, महादेव गिरि, तरसेम सहित अन्य मौजूद थे।


शेयर करें।
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Advertisement









LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.