करनाल पुलिस की साइबर टीमों द्वारा स्कूलों में कैंप लगाकर छात्रों को साइबर अपराधों के प्रति किया जागरूक

0
Advertisement



पूरे भारतवर्ष में अक्टूबर माह को “साइबर क्राईम जागरूकता माह” के तौर पर बनाया जा रहा है। इसके तहत जिला करनाल में भी करनाल पुलिस द्वारा आज दिनांक 06 अक्टूबर 2021 को गर्वनमेंट गर्ल सीनियर सेकेण्डी स्कूल, प्रेम नगर करनाल, गर्वनमेंट बॉयज सीनियर सेकेण्डरी स्कूल, प्रेमनगर करनाल व गर्वनमेंट सीनियर सेकेण्डरी स्कूल, मंगलपुर जिला करनाल में कैंप लगाकर स्कूल के छात्र-छात्राओं को साइबर अपराध व चुनौतियों के प्रति सजग किया गया।

इस कैंप में करनाल पुलिस की साइबर टीमों द्वारा स्कूली बच्चों को साइबर अपराधों के बारे में जागरूक किया गया। उन्होने बताया कि साइबर अपराध एक अपराधिक कृत्य है। साइबर अपराधों पर नियंत्रण रखने के लिये लोगों को स्वंय जागरूक होना जरूरी है।

Advertisement


आज के इस तकनीकि युग में घरेलू प्रयोक्ता, विधार्थी तथा स्कूली बच्चे इंटरनेट का प्रयोग अपने ज्ञान के क्षेत्र का विस्तार करने, अपना परिचय तैयार करने तथा समाज का हिस्सा बनने के लिये कर रहे हैं। लेकिन व्यक्तिगत सूचना की गोपनियता की किसी प्रकार की क्षति के बिना सुरक्षित रूप से रखने, सूचना की गोपनियता को बनाए रखने तथा कम्प्यूटिंग परिवेश में विश्वास पैदा करने के लिये साइबर सुरक्षा से संबंधित जागरूक होना जरूरी है।

टीम ने बच्चों को बताया कि फेसबुक पर प्रोफाइल बनाते समय अपनी पहचान कैसे गोपनीय रखी जाती है, किसी अनजान व्यक्ति की फ्रेंड रिक्वेस्ट कभी भी असेप्ट नही करनी चाहिए, अपनी सोशल मीडिया अकाउंट्स पर अपने फोटो व वीडियो डालने से परहेज करना चाहिए।

इनका कोई गलत इस्तेमाल कर सकता है। फेसबुक, वॉटसअप या मेल पर आये किसी भी अनजान लिंक पर क्लिक ना करें, इसके माध्यम से हैकर आपके फोन को हैक करके आपके बैंक खाते से आपकी सारी जमा पूंजी को उड़ा सकते है। किसी भी अनजान व्यक्ति के साथ वीडियो कॉल आदि ना करें, वह व्यक्ति इसका गलत इस्तेमाल करके आपको ब्लैकमेल कर सकता है।

ऑनलाइन शापिंग साइट्स पर शॉपिंग करते समय यह ध्यान रखें कि शॉपिंग साइट सुरक्षित व अधिकृत है। ऑनलाइन शापिंग साइट्स पर सस्ता सामान मिलने के लालच में ना आयें, पहले वैरिफाई कर लें। किसी को भी अपने कार्ड नम्बर, सीवीवी व ओटीपी आदि किसो को नहीं बताने चाहिएं। किसी भी ऐपलिकेशन को डाउनलोड करने से पहले उसे अच्छी तरह से वैरिफाई कर लेना चाहिए।

किसी भी सूरत में पासवर्ड सरल ना बनाएं। हमेशा एक मजबूत पासवर्ड होना चाहिए। अपने लैपटॉप व कम्प्यूटर को हमेशा पासवर्ड लगा कर रखना चाहिए। इस तरह की सावधानियां अपना कर हम सम्भावित साइबर अपराध होने से बच सकते हैं। साइबर अपराध के प्रति जागरूक करने के साथ-2 स्कूली बच्चों को यातायात नियमों के प्रति जागरूक किया गया व नियमों की पालना करने के लिये प्रोत्साहित किया गया।

साइबर फ्रॉड या साइबर अपराध होने की स्थिति में साइबर क्राइम राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 155260 या ऑनलाइन पोर्टल cybercrime.gov.in पर ऑनलाइन शिकायत दर्ज करा सकते हैं।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.