पुलिस के मौजूदगी में एक अवैध बिल्डिंग सील, बाकि पर जल्द हो सकती है बड़ी कार्यवाही।

0
Advertisement

सी एम सिटी करनाल में नगर निगम द्वारा चिन्हित की गई 88 अवैध बिल्डिंगों को सील करने का कार्य शुरू ,मॉडल टाउन में बन रही 3 मंजिला अवैध बिल्डिंग को सील करने पहुँचे निगम अधिकारी साथ में पुलिस बल भी रहा मौजूद ,वही नगर निगम के कुछ भर्ष्ट अधिकारियों पर भी उठ रही उंगलिया ,एक बिल्डिंग पर निगम द्वारा कारवाही करना कारवाही या कुछ ओर बड़ा सवाल !


हम आपको बता दे की पिछले हफ्ते ही सी एम् सिटी करनाल में अवैध निर्माण पर रोकथाम के लिए करनाल नगर निगम ने 88 इमारतों की एक  लिस्ट जारी की थी ,यह लिस्ट पंचकुला स्तिथ शहरी स्थानीय निकाय निदेशालय को भेज दी गई ,जारी की गई छह पेज की इस लिस्ट में शहर के कई रसूख़दार और ज़्यादातर सभी राजनीतिक दलों से सम्बंध रखने वाले लागों के नाम हैं ! लिस्ट के अनुसार सबसे ज़्यादा 25 अवैध इमारतें माडल टाऊन छेत्र में,19 चार चमन में,10 कुंजपुरा रोड पर और 9 सर छोटू राम चौंक (नमस्ते चौंक) व देवीलाल चौंक के पास स्तिथ हैं ! बाकि इमारतें सदर बजार, हांसी रोड, ओल्ड जी.टी. रोड, दुग्गल कालोनी और हस्पताल रोड के आस पास की है !

Advertisement



वहीं 88 इमारतों पर गाज गिरने के बाद सभी में खलबली मच गई है ! लेकिन सवाल यही कि क्या इस एक बिल्डिंग पर कारवाही होने के बाद कोई कार्यवाई होगी या फिर से निगम के भ्रष्ट अधिकारियों की जेबें भर दी जाएँगीं ! क्योंकि ऐसी लिस्टें पहले भी कईं आईं हैं लेकिन कारवाही के नाम पर इनको ठण्डे बस्ते में डाल दिया जाता है ! पुख्ता सूत्रों की मानें तो जितनी भी यह अवैध इमारतें बनी हैं

उसमें निगम के छोटे से बड़े कईं अधिकारियों ने खूब माल कमाया है ! वहीं पूर्व में रहे दोनों निगम कमिश्नरों की कार्यप्रणाली पर भी सवालिया निशान खड़े होते हैं कि उनके रहते शहर में करोड़ों रूपए खर्च कर यह बहुमंजीला इमारतें कैसे बनती रहीं, सूत्रों के मुताबिक जहां इस मामले में खूब भ्रष्टाचार हुआ वहीं करनाल में मुख्यमंत्री खट्टर के नज़दीक रहने वाले कुछ प्रतिनीधियों व लोगों ने भी जहाँ मौका मिला वहां खूब माल कमाया है जिसके बारे में करनाल ज़िला के तकरीबन सभी भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं को इस बात की जानकारी है लेकिन डर कर कोई भी कुछ नही बोलता है !

 

Advertisement


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.