Advertisement

Live – देखें – Big News – करनाल नगर निगम का बड़ा फैंसला ,करनाल के मुख्य सातो द्वार के बदले नाम , शहर के लोग इस फैसले से कितने संतुष्ट – देखें Live – Share Video

महाभारत के वीर योध्याओ के नाम पर होगी सातो द्वारो की अब नई पहचान, इतिहास में एहम योगदान देते है सातो द्वारा, किसी जमाने में सातो द्वारा के अदंर बस्ता था राजा कर्ण का शहर, रात होते ही हो जाते सभी द्वारा बंद !

Advertisement


इतिहास से सम्बन्ध रखने वाले राजा कर्ण की नगरी करनाल के वो सात द्वारा जिसमे कभी एक जमाने में दानवीर राजा कर्ण का शहर बस्ता था आज उन द्वारा के नामो को बदलने की करनाल नगर निगम योजना बना ली है करनाल के पार्षद के साथ हाउस की हुई बैठक में यह प्रस्ताव रख गया की पुराने शहर के मुख्य सात द्वारो के नामो को बदल कर महाभारत के वीर योध्याओ के नाम पर रखा जाए ताकि आज की मोजुदा पीढ़ी को महाभारत के शूरवीरो के बारे में पता चल सके जिसके तहत निगम द्वारा इस फैंसले पर मंजूरी लगा दी गई जिसके बारे में करनाल मेयर रेनू बाला कहती है की सातो द्वारो में पुराना शहर बस्ता है और करनाल की पहचान महान दानवीर राजा कर्ण के नाम से है और लेकिन आज की हमारी पीढ़ी ज्यादातर महाभारत के योध्याओ के बारे में कुछ नही जानती है इन्हें इतिहास के बारे में जागरूक करने के लिए यह फैंसला लिया गया पहले ही सातो द्वारों के नाविनिकर्ण का काम किया गया ताकि इन द्वारा की पहचान बरकार रहे !

वर्तमान में जहा आज पुराना शहर बसा हुआ है वहीं पर महाराजा कर्ण का एक किला हुआ करता था जिस के द्वार हस्तिनापुर तथा इंद्रप्रस्थ, पश्चिमी द्वार कर्ण ताल, पूर्वी द्वार यमुना तट तथा उत्तरी द्वार कुरुक्षेत्र की ओर खुलता था और इन्ही द्वारों के अंदर राजा कर्ण का शहर बस्ता था जहा लोगो के लिए हर सुविधा उपलब्ध थी और वही रात होते ही शहर की सुरक्षा के मध्यनजर सातो द्वारों को बंद कर दिया जाता था ताकि दुश्मन हमला ना कर सके जिनके वक्त के अनुसार नाम बदलते गए और आज भी यह द्वारा पुराने शहर में है जिन्हें आज के समय में दयालपुरा गेट, कलंदरी गेट, अर्जुन गेट, सुभाष गेट, जुंडला गेट, कर्ण गेट व् बांसों गेट के नाम से जाना जाता है लेकिन अब जो करनाल नगर निगम इन सभी द्वारों के नामो को बदल कर महाभारत कालीन के वीरो के नाम पर रखने जा रही है और अब से इन सभी द्वारा की पहचान नए नामो से होगी ! बकायदे सभी द्वारों का नाविनिकर्ण किए गया है करोड़ो रुपए इस पर खर्च किए गए है और बकायदा द्वार के ऊपर द्वारा का नाम लिखा गया है वही शहर के लोगो की अगर बात करे तो सभी के अपने अपने विचार है कुछ का कहना है की निगम का फैंसला अच्छा है इससे हमारी नई पीढ़ी को इन योधा के बारे में पता लगेगा वही कुछ का कहना है की जो पुराने नाम उनको भूलना आसन नही होगा लोगो को कुछ परेशानी भी आएगी !

वही करनाल दयाल सिंह कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल और करनाल शहर के इतिहास से तालुख रखने वाले राम जी लाल का कहना है की शहर की और समस्या छोड़कर निगम द्वारों के नाम बदलने जा रही है सभी द्वारा का पुराना इतिहास है सभी द्वारो के नाम काफी पुराने है लोगो के दिल दिमाग में है और आसानी से भूल नही पाएगे लोग इन नामो को वैसे ही करनाल का इतिहास काफी पुराना है इससे लोगो को परेशानी होगी उनके पुराने पते सभी पुराने द्वारों के नाम पर है !

बता दे की

कलंदरी गेट – कृष्ण द्वार

अर्जुन गेट- अर्जुन द्वार

कर्ण गेट- कर्ण द्वार

सुभाष गेट- सहदेव द्वार

बांसों गेट- भीम द्वार

दयालपुरा गेट- मुकुल द्वार

जुंडला गेट- युधिष्टर द्वार

Advertisement


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.