ग्रामीण सफाई कर्मचारियों को सरकारी कर्मचारी घोषित किया जाए

0
Advertisement


शेयर करें।
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हरियाणा ग्रामीण सफाई कर्मचारी यूनियन की बैठक कर्ण पार्क में जिला अध्यक्ष जोगिंद्र सिंह की अध्यक्षता में हुई। मांगों और समस्याओं पर चर्चा करते हुए कर्मचारियों ने सरकार द्वारा अनदेखी किए जाने पर रोष जाहिर किया। प्रधान जोगिंद्र सिंह ने कर्मचारियों की मांगों का जिक्र करते हुए कहा कि सभी कर्मचारियों को वेतन हर माह की सात तारीख तक मिल जाना चाहिए। ग्रामीण सफाई कर्मचारियों को सरकारी कर्मचारी घोषित किया जाए और न्यूनतम वेतन 18 हजार रुपए लागू हो।

सफाई कर्मचारियों को सामाजिक सुरक्षा के दायरे में शामिल किया जाए। उन्होंने कहा कि सरकारी कर्मचारियों की तरह ग्रामीण सफाईकर्मियों को तमाम त्यौहारों पर अवकाश मिले तथा पीएफ और ईएसआई की सुविधा भी लागू हो। कर्मचारी दुर्घटना का शिकार होता है तो कम से कम पांच लाख रुपए मुआवजा दिया जाए। महिला कर्मचारियों को वेतन सहित प्रसूति लाभ की सुविधा मिले। सफाई कार्य करने के लिए समय पर सभी औजार उपलब्ध करवाए जाएं। बैठक में कहा गया कि गलत तरीके से हटाए गए सफाई कर्मचारियों को नौकरी पर बहाल किया जाए। खाद्य सुरक्षा कानून के दायरे में कर्मचारियों को शामिल किया जाए। पहले से अलाट 100 गज के प्लाटों पर कब्जा दिलवाया जाए व मकान बनाने के लिए अनुदान की व्यवस्था हो। मीटिंग में सीटू से उपप्रधान जोगा सिंह, जगबीर सिंह, ब्लाक प्रधान प्रदीप कुमार, सुभाष, प्रेमचंद मोहिदीनपुर, बाबूराम, ओमप्रकाश, राजेंद्र, पालाराम, रमेश, जयसिंह, अमरजीत, जगमाल, ज्ञानीराम, महिंद्र व धर्मेंद्र आदि मौजूद रहे।


शेयर करें।
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Advertisement









LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.