Advertisement

करनाल के किसान ने वाटर रिचार्ज का निकाला नया तरीका जहां जल स्तर को ऊपर लाने में मिलेगी मदद वही प्राकृतिक आपदा बाढ़ व खेतों में जलभराव से किसानों को मिलेगी राहत और लाखों लोगों को मिलेगा रोजगार !

धरती से पानी का लगातार दोहन हो रहा है । जल स्तर लगातार नीचे गिरता जा रहा है । गर्मी आते ही पानी की समस्या शुरू हो जाती है ।

Advertisement


हरियाणा के कई जिले डार्क जोन में आने से आने वाले समय में पानी का संकट एक गंभीर विषय बन गया है जिसके ऊपर लगातार केंद्र और प्रदेश की सरकार कई प्रकार के विशेष अभियान चलाकर किसान और आमजन को जागृत करने में लगी हुई है वहीं करनाल के गांव रमाणा रमाणी के रहने वाले किसान भजन लाल कंबोज ने पानी को बचाने वह बाढ़ के समय पानी से आने वाली मुश्किलों से निजात दिलाने के लिए वाटर रिचार्ज करने का तरीका निकाला है ।

भजन लाल कंबोज ने बताया उसकी योजना के अनुसार जमीन की सतह से 4 फुट नीचे बोरिंग के चारों तरफ इंटर का कुआं बनेगा । बोरिंग के चारों तरफ जाल लगेगा उसके ऊपर मच्छरदानी नुमा फिल्टर को लगाया जाएगा । 300 फुट नीचे तक यहां दोहन कम है तो वहां 180 फुट और से भी काम चल जाएगा ।

इसका फायदा यह हुआ कि जितना भी पानी एकत्रित होगा वो सीदा पताल में जाएगा । किसानों की फसल नहीं डूबे गी। जमीन का जलस्तर ऊपर आएगा । ऊपर फिल्टर लगने से बोरिंग के अंदर किसी भी प्रकार का गंदा पानी व कोई भी कीड़ा नहीं जा सकेगा । फिल्टर लगने से बरसात में आया कबाड़ बोरिंग के अंदर नहीं जाएगा । वर्षा का पानी नीचे जाने से पानी की क्वालिटी भी सुधरेगी ।

धरतीपुत्र ग्लोबल वार्मिंग की समस्या से बचेंगे । ऐसा करने से जमीन के अंदर जो भी पानी एकत्रित होगा उसे किसान मोटर से खुद निकाल भी सकते हैं। सरकार कोबिस प्रोजेक्ट को अपनाने से जल संकट में उबरने में काफी मदद मिलेगी ।इस प्रोजेक्ट पर 65 से 70 हजार का खर्चा आता है ।

किसान भजनलाल ने सरकार से इस प्रोजेक्ट पर सब्सिडी की मांग की है ताकि हर किसान आसानी से अपने खेत में से लगा सके ।

Advertisement


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.