डीसी ने वीरवार किया जिला बाल भवन का औचक निरीक्षण–चल रही गतिविधियों का लिया जायजा

0
Advertisement



जिला बाल कल्याण परिषद के अध्यक्ष एवं डीसी डा० आदित्य दहिया ने वीरवार को जिला बाल कल्याण अधिकारी कार्यालय का औचक निरीक्षण किया तथा वहां बच्चों के लिए चल रही गतिविधियों को देखा। मौके पर जिला बाल कल्याण अधिकारी सरबजीत सिंह सिबिया भी उपस्थित थे।
डीसी सबसे पहले डे-केयर सैंटर पहुंचे जहां पर माता-पिता अपने काम पर जाने से पहले बच्चों को यहां छोड़ देते हैं। डीसीडब्ल्यूओ ने बताया कि इस सैंटर मे कर्मचारी बच्चों का पूरा ख्याल रखते हैं, यहां तक कि उन्हें खिलौने के साथ खिलाने के साथ-साथ उनकी रूचि के बारे में परख की जाती है। बच्चों को निशुल्क सुविधा उपलब्ध करवाई जाती है। इस समय डे-केयर सैंटर में प्रतिदिन 36 बच्चे आते हैं। इसके बाद डीसी ने ब्यूटी कल्चर सैंटर का दौरा किया और प्रशिक्षण ले रही लड़कियों से बातचीत की। डीसीडब्ल्यूओ  ने डीसी को बताया कि इस समय सैंटर में 27 लड़कियां प्रशिक्षण ले रही हैं जिन्हें 6 महीने और एक साल तक का प्रशिक्षण निशुल्क दिया जाता है।

Advertisement


अपने निरीक्षण के दौरान डीसी ने फैशन डिजाईनिंग सैंटर को भी देखा जहां पर 24 लडकियों को निश्ुाल्क प्रशिक्षण दिया जा रहा है यह प्रशिक्षण लगभग एक वर्ष का है। इसके बाद डीसी कम्प्यूटर सैंटर पहुंचे, बाल भवन स्थित कम्प्यूटर सैंटर में 56 बच्चे ट्रेनिंग ले रहे हैं, इस कोर्स की अवधि 6 महीने या एक वर्ष है। डीसी ने इसके बाद ई-लाईब्रेरी का भ्रमण भी किया तथा वहां चल रहे पढ़ाई के कार्य को देखा। मौके पर उपस्थित डीसीडब्ल्यूओ  ने बताया कि इस लाईब्रेरी में काफी संख्या में विद्यार्थी किताबें पढऩे के लिए आते हैं जिनमें वे विद्यार्थी भी शामिल हैं जो उच्च पदों के लिए प्रतियोगिताओं में बैठते हैं, इस पर डीसी ने कहा कि दो ऐसे विद्यार्थियों के नाम बताओ जिन्होंने यहां से सुविधा प्राप्त कर किसी भी क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किया हो या फिर उच्च पद पर आसीन हो, इस पर डीसीडब्ल्यूओ ने कहा कि इस विषय को लेकर पता किया जाएगा।

डीसी ने डीसीडब्ल्यूओ को ई-लाईब्ररी में किताबों की उपलब्धता के बारे में जानकारी ली, ई-लाईबे्ररी मे किताबों की संख्या बढ़ाने क ो लेकर डीसी ने कहा कि यहां किताबों की संख्यां बढ़ाई जानी जरूरी है ताकि सम्बन्धित को पढऩे के लिए अच्छी-अच्छी पाठय सामग्री उपलब्ध हो सके। डीसी ने किताबों की कमी को पूरा करने के  लिए नायाब तरीका ढूंढते हुए अपने पीए को फोन लगाया और कहा कि कार्यालय के बाहर 3*2 का एक छोटा सा पट्ट लगा कर यह लिख दिया जाए कि उनके कार्यालय में यदि कोई भी व्यक्ति मिठाई का डिब्बा या बुक्का लेकर आना चाहता है तो उनके स्थान पर अच्छी पुस्तकें लेकर आए ताकि ई-लाईब्रेरी में किताबों की संख्या भी बढ सके और पाठकों का भी भला हो।  अच्छी पुस्तकें पढक़र विद्यार्थी समाज और राष्ट्र की और बेहत्तर तरीके से सेवा कर सके।
बाल भवन में डीसी ने बच्चों के लिए चलाई जा रही टॉय ट्रेन भी देखी और वहां पर सफाई के कार्य को देखकर माली का काम कर रहे कर्मचारी की पीठ थपथपाई। डीसी को डीसीडब्ल्यूओ ने बताया कि टॉय ट्रेन की सुविधा बच्चों के लिए निशुल्क है। सांय के समय काफी बच्चे यहां सुविधाओं का लुत्फ उठाने के लिए आते हैं। इसके बाद डीसी ने एरोबिक एवं फिट्नेस क्लास का भी भम्रण किया। सिबिया ने डीसी को बताया कि इस क्लास में प्रतिदिन 5 से 6 बजे के बीच लगभग 20 महिलाएं आती हैं उनके लिए यह सुविधा निशुल्क उपलब्ध है। यदि कोई अन्य महिला यहां पर एरोबिक एवं फिट्नेस क्लास के लिए आना चाहती है तो वो आ सकती है।

डीसी ने चाइल्ड लाईन प्रोजेक्ट का भी दौरा किया और वहां पर कार्यरत स्टाफ से चाईल्ड लाईन बारे एक एक करके विस्तार से जानकारी ली। डीसीडब्ल्यूओ ने बताया कि कार्यालय के दूरभाष पर जैसे ही किसी बच्चे की गुम होने की सूचना मिलती है तो कार्यालय की टीम तुरंत हरकत में आती है, इस पर डीसी ने ट्रायल के लिए एसीयूटी अभिषेक मीणा को 1098 नम्बर पर फोन करने के लिए कहा। ट्रायल के रूप में एसीयूटी ने 10 बजकर 17 मिनट पर टोल फ्री नम्बर 1098 पर फोन करके कहा कि करनाल रेलवे स्टेशन पर 6 साल की बच्ची लावारीश स्थिति में है, जैसे ही एसीयूटी ने  कॉल की तुरंत गुडग़ांव रिजनल सैंटर के अधिकारियों ने एसीयूटी को लाईन पर लेते हुए बाल भवन करनाल के कार्यालय के दूरभाष पर फोन मिलाया और स्थिति की जानकारी दी। इस  सारी कारवाई लगभग एक मिनट का समय लगा। डीसी ने व्यवस्था की अपडेशन की सराहना करते हुए कहा कि यह बहुत ही अच्छा कार्य है इससे जरूरतमंदों तुरंत  मदद हो जाती है। उन्होंने सम्बन्धित कर्मचारियों को निर्देश दिए कि अपने दूरभाष को खाली ना छोड़ें। डयूटी पर तैनात कर्मचारी इसी तरह हाजिर रहना चाहिए।

उपायुक्त डा०आदित्य दहिया ने बाल भवन में निरीक्षण के उपरांत असंध खंड के गांव पाढा के आर्य कन्या गुरूकुल भवन में जिला बाल कल्याण परिषद द्वारा संचालित फैशन डिजाईनिंग सेंटर का दौरा किया और जिला बाल कल्याण अधिकारी सर्बजीत सीबिया से केन्द्र के बारे विस्तारपूर्वक जानकारी ली। डीसीडब्ल्यूओ ने बताया कि इस केन्द्र में 26-26 छात्राओं के दो ग्रुपों को सिलाई कढ़ाई से संबंधित निशुल्क प्रशिक्षण दिया जा रहा है। प्रशिक्षण के बाद इन छात्राओं को प्रमाण -पत्र भी दिया जाता है। इस पर डीसी ने छात्राओं से उनके प्रशिक्षण के बारे में पूछा तो छात्राओं ने अपने द्वारा तैयार किये गए सिलाई-कढ़ाई के नमूनों को दिखाया। उपायुक्त ने छात्राओं के कार्य की सराहना करते हुए कहा कि इस तरह का प्रशिक्षण आपके आने वाले जीवन में आजीविका का मुख्य साधन बन सकता है। मन लगाकर प्रशिक्षण ग्रहण करें। प्रशिक्षण लेकर उत्कृष्ट कार्य करने वाली छात्रा को आगामी 26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर जिला स्तरीय समारोह में सम्मानित भी किया जाएगा।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.