करनाल की को-पायलट बेटी पैनी चौधरी ने 17 दिन बाद मुंबई में ली आख़िरी सांस,परिवार की मांग शहीद का दर्जा मिले

0
Advertisement


शेयर करें।
  • 2.2K
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    2.2K
    Shares

(मालक सिंह): इंडियन कोस्ट गार्ड में कार्यरत करनाल की बेटी पैनी चौधरी ने मुम्बई के नेवी हॉस्पिटल में दम तोड़ दिया। वो 10 मार्च को इंडियन कोस्ट गार्ड के हेलीकाप्टर की इमरजेंसी लैंडिंग में बुरी तरह से घायल हो गई थी। जिसके बाद उसको इलाज़ के लिए नेवी के हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। वो हादसे के बाद से ही कोमा में चली गई थी। पैनी चौधरी करनाल के होटल व्यवसायी मनबीर चौधरी की भतीजी थी। करनाल के चौधरी परिवार में शोक का माहौल।

जैसे ही कल करनाल की बहादुर बेटी पैनी चौधरी की मौत की खबर करनाल में रिस्तेदारों और परिवार के लोगों को लगी तो परिवार में मातम छा गया। परिवार के लोगों का कहना है कि पैनी चौधरी की मृत्यु ऑन ड्यूटी हुई है इसलिये उसको शहीद का दर्जा दिया जाए।

Advertisement


10 मार्च को इंडियन तटरक्षक हेलीकॉप्टर जो रायगढ़ जिले के आसपास दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, जिसमें करनाल की रहने वाली पैनी चौधरी भी शामिल थी करनाल की बेटी पैनी चौधरी की 17 दिनों तक जीवन के लिए संघर्ष के बाद कल मृत्यु हो गई।

10 मार्च को रायगढ़ में मुरुड के निकट दुर्घटनाग्रस्त होने वाले तटरक्षक चेतक हेलीकाप्टर की सह पायलट, सहायक कमान कैप्टन पैनी चौधरी सिर की चोट की सर्जरी के बाद लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर थी।

दक्षिण मुंबई के कुलाबा क्षेत्र में उन्हें नौ सैनिक अस्पताल आई एन एच एस असविनी में भर्ती कराया गया था।

तटरक्षक प्रो (पश्चिम) कमांडेंट अविनान्दन मित्र ने कहा की कल पैनी चौधरी ने हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली।

Penny Choudhary

सफलतापूर्ण लैंडिंग के बाद हेलीकॉप्टर के रोटर के सिर पर लगने के कारण कैप्टन चौधरी का आंतरिक खून बह गया था।

हेलीकॉप्टर चार यात्रियों के साथ एक नियमित राउंड पर था जिसमें डिप्टी कमांडेंट बलविंदर सिंह, असिस्टेंट कमांडेंट चौधरी और दो गोताखोर संदीप और बलजीत शामिल थे

मिली जानकारी के अनुसार जैसे ही कैप्टन चौधरी ने सबसे पहले क्रैश हेलीकॉप्टर से उतरने वाले प्रयास किया, लेकिन हेलीकॉप्टर का रोटर ब्लेड जो कि धीमीं गति से घूम रहा था पैनी चौधरी के हेलमेट पर जा टकराया, जिससे वो बुरी तरह से घायल हो गई।

जब हेलीकाप्टर इंजन बंद हो गया, तो पायलट और सह-पायलट ने समुद्र में गिरने से रोकने के लिए हेलिकॉप्टर को घुमाने के लिए रोटर के मूवमेंट का इस्तेमाल किया।

उन्होंने हेलीकॉप्टर को समुद्र तट के रेतीले हिस्से पर उतारने की कोशिश की, लेकिन यह नहीं हो सका, और हेलीकॉप्टर एक चट्टानी पैच पर उतरा और दुर्घटना ग्रस्त हो गया।

HBN


शेयर करें।
  • 2.2K
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    2.2K
    Shares
Advertisement









LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.