जमोला की टीम ने जीता सर्कल कबड्डी टूर्नामेंट इनाम के तौर पर मिली एक लाख की राशि

0
Advertisement

करनाल। हरियाणा में पहली बार करनाल के लोगों को विश्व स्तरीय खिलाडिय़ों के बीच सर्कल कबड्डी के रोमांचक मैच को देखने को मिले। खासतौर पर महिला खिलाडिय़ों ने जोरदार प्रदर्शन किया। पार्षद बलविंद्र सिंह की पहल को लोगों ने सिर आंखों पर लिया।

उन्होंने इस मौके पर घोषणा की कि अगले प्लान में वह अंतरराष्टीय स्तर का सर्कल कबड्डी टूर्नामेंट आयोजित करवाएंगे। यहां पर कनाडा, बांगलादेश व पाकिस्तान तथा अन्य देशों से लड़कियों की टीमों को भी आमंत्रित करेंगे। दिन में भीषण गर्मी के बीच हजारों लोग मैच का आनंद लेते दिखाई दिए।

Advertisement


इस मौके पर हरियाणा और पंजाब के बीच मैच रोमांचक रहा। इनामों की बरसात होती रही। यहां पर देश-विदेश से खेल प्रेमी पहुंचे हुए थे। जहां एक तरफ पंजाब ने हरियाणा को हराया, वहीं इसका फाइनल मुकाबला जींद के जमोला गांव की टीम ने जीता। फाइनल मैच जमोला और पानीपत की अहर टीम के बीच हुआ। 26 अंकों से जमोला ने जीत दर्ज की। जमोला की टीम को एक लाख रुपए का इनाम मिला।

दूसरे स्थान पर रही अहर की टीम को 71 हजार रुपए का पुरस्कार दिया गया। पहले यह मैच दोनों टीमों का बराबबरी रहा। दोनों को पांच-पांच रेड का मुकाबला दिया। कमेटी द्वारा निर्णय करना मुश्किल था। जब गोल्डन मुकाबले के लिए टॉस हुआ तो जमोला की टीम ने टॉस जीता। जमोला की टीम की तरफ से सुधीर डालडा ने रेड डाली। अहर की टीम के खिलाड़ी उसे रोक नहीं पाए और जमोला की टीम ने 26 अंक प्राप्त कर लिए।

अहर की टीम का एक नंबर कटने पर उसके 24 अंक रह गए। यह मौका ऐतिहासिक था। इस मुकाबले में बेस्ट राइडर जमोला के सुधीर डालडा को घोषित किया गया, जिसमें मोटरसाइकिल इनाम में मिली। ेबेस्ट केचर अहर के संदीप को घोषित किया गया। संदीप को भी मोटरसाइकिल इनाम के तौर पर मिली। आरकेपुरम तथा शक्तिपूरम वार्ड नंबर दो के पीछे निर्माणाधीन स्टेडियम में पार्षद बलविंद्र सिंह द्वारा आयोजित सर्कल कबड्डी टूर्नामेंट एक महाकुंभ की तरह लगा। दोनों दिन खेल प्रेमियों का जमावड़ा लगा रहा।

इस अवसर पर भूपेंद्र लाठर, राजेश चौधरी व राजेंद्र आर्य दादूपुर आदि मौजूद रहे। यह रहे मुकाबले टूर्नामेंट के दूसरे दिन खेले गए मैच में लड़कियों के मैच में पंजाब की टीम प्रथम रही और हरियाणा की टीम ने दूसरा स्थान प्राप्त किया। पुरुषों के मुकाबले में पहला क्वार्टरफाइनल कुराना और अहर के बीच खेला गया, जिसमें 18 अंक लेकर अहर की टीम जीती। दूसरा क्वार्टरफाइनल सरदार बलविंद्र सिंह क्लब वार्ड नंबर दो तथा खुडाअलीशेर पंजाब के बीच हुआ, जिसमें 24 अंक लेकर पंजाब की टीम जीती।

तीसरा क्वार्टरफाइनल नगूरा और लाठ के बीच हुआ, जिसमें 17 अंक लेकर लाठ की टीम जीती। अंतिम क्वार्टरफाइनल छज्जूगढ़ी और जमोला के बीच हुआ। जमोला 19 अंक लेकर मैच जीती। सेमिफाइन मुकाबले खुडाअलीशेर पंजाब और अहर के बीच तथा लाठ और जमोला के बीच हुए।

अहर और जमोला की टीमें जीतकर फाइनल में प्रवेश कर गई। इस समूचे आयोजन में प्रबंधन कमेटी का महत्वपूर्ण योगदान रहा, जिसमें पुष्पाल आर्य, श्याम भाटी, बिल्ला बसंतविहार, प्रवीण मंजूरा, दविंद्र झंझाड़ी, शमिंद्र सिंह,दलेर सिंह, जतिंद्र सिंह, अमरजीत सिंह विर्क, अमृत वड़ैच, गोल्डी संधु, बग्गा आढ़ती, विक्रम अमुपुरिया, संग्राम सिंह, यादविंद्र साहू, गुरदयाल साहू, राणा मलका, हरदीप सिंह विर्क, अमनदीप मट्टू, गुरदयाल, ताज ढिल्लो, जगदीप विर्क, अजायब विर्क, अमरजीत साहू, राज विर्क, नवजोत भूमन, मलकीत गोराया, हरविर्क, सिमरत विर्क, बचत्र, कर्ण नागर, कर्ण विर्क, परमिंद्र कालो और प्रीत कुराली शामिल हैं।

Advertisement


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.