पुरानी सब्जी मंडी में जय ओंकार यज्ञ समिति की ओर से हुअा सामूहिक ओंकार महायज्ञ का आयोजन

0
Advertisement


शेयर करें।
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share

जय ओंकार अंतरराष्ट्रीय सेवाश्रम संघ के संस्थापक स्वामी शक्तिदेव महाराज व स्वामी संतोष ओंकार महाराज के सानिध्य में जय ओंकार यज्ञ समिति की ओर से सामूहिक ओंकार महायज्ञ का आयोजन किया गया। श्री कृष्ण जन्माष्टमी महापर्व के अवसर पर पुरानी सब्जी मंडी में हुए ओंकार महायज्ञ में सैकड़ों परिवारों ने अपने-अपने हवण कुंड पर बैठकर यज्ञ किया।

विद्वान ब्राह्मणों ने जय गुरुदेव जय ओंकार के 1008 मंत्रों के साथ आहुतियां डलवाई। ओंकार यज्ञ में आहुतियां डाल श्रद्धालुओं ने सबके कल्याण की मन्नतें मांगी। इस दौरान छोटी कन्याओं ने भी अपने परिवारों के साथ बैठकर यज्ञ किया। यज्ञ की पूर्णाहुति स्वामी शक्तिदेव महाराज ने डाली।

Advertisement


ओंकार यज्ञ उपरांत समिति की ओर से भगवान श्री राधा कृष्ण व गोमाता रथयात्रा निकाली। शोभायात्रा का शुभारंभ जय ओंकार अंतरराष्ट्रीय सेवाश्रम संघ के अध्यक्ष स्वामी संदीप ओंकार महाराज ने पालकी ज्योति प्रज्जवलित कर किया। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने माथा टेककर व श्रीकृष्ण रथ को खींचकर भगवान का आशीर्वाद प्राप्त किया।

शोभा यात्रा पुरानी सब्जी मंडी से शुरू होकर शहर के मुख्य बाजार कर्ण गेट, कमेटी चौक, सदर बाजार, रेलवे रोड व बस स्टैंड रोड से होती हुई वापस पुरानी सब्जी मंडी पहुंची। स्थान-स्थान पर श्रद्धालुओं द्वारा पुष्प वर्षा करके, नाच-गाकर व भगवान श्रीकृष्ण के जयकारों से शोभायात्रा का स्वागत किया। शोभायात्रा में करीब 21 झांकिया निकाली गई।

इनमें मुख्य तौर पर लड्डू गोपाल, माखन चोर, गउ माता व भगवान श्रीकृष्ण रथ की झांकी आकर्षण का केंद्र रही। वहीं 251 महिलाओं ने उपवास कर शोभायात्रा में अपने शीश पर कलश सजाया और परिवार में सुख-शांति की कामना की गई।

यज्ञ कर लें गउ सेवा का संकल्प : स्वामी शक्तिदेव स्वामी शक्तिदेव महाराज ने श्रद्धालुओं को प्रेरणा देते हुए कहा कि यज्ञ भगवान श्री कृष्ण की आत्मा है। इसलिए श्री कृष्ण के जन्म पर्व को यज्ञ में आहुतियां डालकर मनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि भगवान कृष्ण को गउ अति प्रिय है। आज भगवान कृष्ण की जयंती के अवसर पर हमें संकल्प करना चाहिए कि द्वार पर आने वाली गाय को कभी ग्रास के बिना नहीं जाने देंगे।

गउ को ग्रास देने से भगवान प्रसन्न होते है, जिस घर में गउ मां का वास होता है। वहां लक्ष्मी भी वास करती है। उस घर में कभी अकाल कष्ठ नहीं आते। उन्होंने कहा कि वेदों में भी कन्या, गउ और ब्राह्मण की सेवा करने को कहा गया है। उन्होंने श्रद्धालुओं को गोमाता को रोजाना रोटी देने व गरीब और अपाहिज मनुष्य को भोजन कराने का भी संकल्प दिलाया।

251 कन्याओं का हुआ पूजन ओंकार यज्ञ का शुभारंभ आदिशक्ति स्वरूपा कन्याओं के इनेलो नेता अशोक माणिक ने सामूहिक रूप से जोत प्रज्जवलित कर किया। वहीं निवर्तमान पार्षद जोगिंद्र चौहान और नरेंद्र चौहान ने गणेश पूजन, हरियाणा ग्रंथ अकादमी के वाइस चेयमैन वीरेंद्र सिंह चौहान, और समाजसेवी विजय लक्ष्मी पालीवाल ने नवग्रह पूजन, शशीपाल मेहता ने भूमि पूजन व कलश पूजन युवा कांग्रेस से पंकज गाबा, इनसो के जिला अध्यक्ष अमनदीप चावला, लिबर्टी ग्रुप से रामनाथ, आरटीए इंस्पेक्टर जोगिंद्र ढुल, सुनील वत्स, महेंद्र बीरा व सुनील वत्स ने किया।

यज्ञ उपरांत समिति की ओर से 251 कन्याओं का पूजन किया गया। भंडारे का शुभारंभ निर्मल फुटेला और विजय सेतिया ने किया। भंडारे में शहर के इलावा आस-पास के क्षेत्रों से पहुंचे श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया। इस अवसर पर संघ संचालक पंडित शिवनारायण दीक्षित, संजय मिड्डा, वीरभान भट्टी, जगमोहन शर्मा, रामेश्वर शर्मा, अरविंद महाजन, गुलशन सेठी, राजेश शर्मा, राजकुमार तलवार, कर्मवीर, शिवनंदन शर्मा, गोपाल व अर्जुन ग्रोवर मौजूद रहे।


शेयर करें।
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share
Advertisement













LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.