देश में सभी नागरिकों को बैंक खाते से जोडऩे के लिए प्रधानमंत्री जन-धन योजना-ओएसडी अमरेन्द्र सिंह

0
Advertisement


शेयर करें।
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देश में सभी नागरिकों को बैंक खाते से जोडऩे के लिए प्रधानमंत्री जन-धन योजना के तहत आर्थिक रूप से पिछड़े हर परिवार का जीरो बैलेंस पर एक लाख रूपये दुर्घटना बीमा कवर करने के साथ खाता खोला गया। अब तक इस योजना के तहत प्रदेश में 56 लाख 75 हजार 611 बैंक खाते खोले गए,जिनमें से 43 लाख 91 हजार 846 खाते आधार से जुड़ गए है,शेष खातों को भी आधार से जोडऩे की प्रक्रिया तेज गति से जारी है। यह जानकारी मुख्यमंत्री के ओएसडी अमरेन्द्र सिंह ने दी।
उन्होंने कहा कि प्रदेश में 8 मई 2015 से शुरू की गई प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना के तहत 18 वर्ष से 70 वर्ष तक की आयु के सभी बचत बैंक धारकों का मात्र 12 रूपये वार्षिक प्रीमियम पर 2 लाख रूपये का दुर्घटना मृत्यु जोखिम कवर बीमा किया जा रहा है। इस योजना के तहत अब तक 25 लाख 5 हजार 62 लोगों का पंजीकरण किया जा चुका है। इसी प्रकार प्रदेश में प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के तहत 18 वर्ष से 50 वर्ष की आयु तक के सभी बचत बैंक धारकों का 330 रूपये वार्षिक प्रीमियम पर दो लाख रूपये का जीवन बीमा किया जा रहा है। इस योजना के तहत 7 लाख 95 हजार 662 लोगों का पंजीकरण किया गया है।
ओएसडी ने बताया कि वृद्धावस्था में आय सुनिश्चित करने व असंगठित क्षेत्रों के लोगों को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से 8 मई 2015 से अटल पेंशन शुरू की गई। इस योजना के तहत एक हजार रूपये से पांच हजार रूपये तक प्रतिमाह पेंशन की गारंटी सुनिश्चित की गई है। इस योजना के तहत 86 हजार 302 लोगों का पंजीकरण किया गया है। इसी प्रकार प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत उपभोक्ताओं को 10 लाख रूपये तक का सस्ता ऋण उपलब्ध करवाया जाता है। इस ऋण को तीन श्रेणियों में विभाजित किया गया है। प्रथम श्रेणी  में शिशु के तहत 50 हजार रूपये तक,दूसरी श्रेणी में किशोर के तहत 50001 से पांच लाख रूपये तक तथा तीसरी श्रेणी तरूण के तहत पांच लाख रूपये से 10 लाख रूपये तक ऋण उपलब्ध करवाया जाता है। अब तक इस योजना के  तहत प्रदेश में 97 हजार 405 लोगों को 1128 करोड़ 24 लाख रूपये का ऋण करवाया गया है।
उन्होंने यह भी बताया कि स्टैंड अप इंडिया स्कीम 5 अप्रैल 2016 को शुरू की गई। इस योजना का उद्देश्य प्रत्येक बैंक शाखा से ऋण लेने वाले कम से कम एक अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति तथा कम से कम एक महिला को 10 लाख रूपये से एक करोड़ रूपये तक ऋण उपलब्ध करवाना है। अब तक इस योजना के तहत प्रदेश में 611 लोगों को 149 करोड़ 20 लाख रूपये का ऋण उपलब्ध करवाया गया है।

शेयर करें।
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Advertisement









LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.