पार्टी की साख से बड़ी है बराला की कुर्सी

0
Advertisement

हरियाणा भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला को बचाने के चक्कर में पार्टी की साख को दाव पर लगा रहे हैं प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, 2019 इलेक्शन में खट्टर को महंगा पड़ सकता है सुभाष बराला को बचाना !

चंडीगढ़ आईएएस की बेटी से  छेड़खानी के चर्चित हाई प्रोफाइल मामले में बुधवार को चंडीगढ़ पुलिस ने हरियाणा भाजपा अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे विकास बराला और उसके दोस्त को गिरफ्तार कर लिया ,मिली जानकारी के अनुसार अब विकास बराला पर किडनैपिंग के चार्जेस भी चंडीगढ़ पुलिस ने लगाए हैं !

Advertisement


यह मामला उस समय सामने आया जब हरियाणा में मनोहर लाल सरकार अपने हजार दिन पूरे करने का जश्न मना रही है हालांकि अपने 3 दिनों के प्रवास के दौरान अमित शाह ने यह साफ तौर पर कह दिया कि 2019 का चुनाव खट्टर के नेतृत्व में लड़ा जाएगा वहीं सोशल मीडिया पर हरियाणा सरकार द्वारा चलाए जा रहे अभियान बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ को लेकर घमासान मचा हुआ है लोग सोशल मीडिया पर यह लिख रहे हैं कि हरियाणा सरकार बेटी की बजाए बेटे को बचाने में लगी है कुछ इस तरह की पोस्ट भी देखने को मिल रही है जिसमें यह लिखा है जनता 3 साल से विकास ढूंढ रही थी और विकास यहां लड़कियों का पीछा करता मिला !

वही जहाँ कल चंडीगढ़ पुलिस ने समन जारी कर विकास बराला को सेक्टर 26 की पुलिस चौकी में पेश होने को कहा था जिसके बाद पूरा मीडिया चंडीगढ़ सेक्टर 26 की पुलिस चौकी के आगे जमा हो गया वही हरियाणा मीडिया प्रभारी जैन द्वारा अचानक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया जिसके बाद सेक्टर 26 से ज्यादातर मीडिया के लोग प्रेस कांफ्रेंस के लिए चले गए प्रेस कॉन्फ्रेंस में सुभाष बराला के साथ जवाहर यादव भी नजर आए अभी सवाल-जवाब चल ही रहे थे कि अचानक एक फोन आने पर सुभाष बराला वहां से चले गए वही जानकारों की माने तो प्रेस कांफ्रेंस तो एक बहाना था बराला का मेन उदेश्य सेक्टर 26 की चौकी से मीडिया वालों को हटाना था !

वहीं विपक्ष भी इस मामले को लेकर कड़ा रुख अपना रहा है हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष अशोक तवर ने कहा विकास बराला को बना दो बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का ब्रांड अंबेसडर वही इनेलो के कार्यकर्ता भी कई दिनों से कर रहे हैं सुभाष बराला के इस्तीफे की मांग !

Advertisement


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.