मेयर चुनावों में पूर्व मेयर रेणु बाला गुप्ता को बदनाम करने की चल रही एक बड़ी साजिश ,देखें पूरी खबर

0
Advertisement


शेयर करें।
  • 1.2K
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1.2K
    Shares

करनाल नगर निगम चुनावो में कुछ लोग अपनी राजनीतिक व निजी रंजिश निकालने के लिए उम्मीदवारों के खिलाफ पिछले कई दिनों से बड़ी बड़ी साजिशें कर रहे है यही नही बल्कि निगम चुनावों से पहले फेसबुक पर ऐसी कई नकली ID बनाकर उम्मीदवारों के खिलाफ साजिशें रच दुष्प्रचार करने में लगे हुए है !

पोल खोल – Pol Khol फेसबुक ID किसने बनाई और कौन है इसके पीछे छुपा साजिशकर्ता

Advertisement


इस ID पर लगातार डल रही पोस्ट्स पर नजर डाली जाए तो साफ साफ पता चलता है कि पूर्व मेयर रेनु बाला गुप्ता और उनके परिवार को बदनाम करने की एक बड़ी साजिश रची जा रही है ,रोजाना दिन में 2 से 3 ऐसी पोस्ट डाली जा रही है जिसमें गलत गलत शब्दो का इस्तेमाल कर गुप्ता परिवार को निरंतर बदनाम किया जा रहा है !

वही करनाल ब्रेकिंग न्यूज ने जब इस मामले की कुछ पड़ताल की तो यह देखने को मिला कि जिस तरह की खबरें लिखी जा रही है और इन्हीं साजिश वाली पोस्ट्स को जिले के ही 2-3 भाजपा नेता व कार्यकर्ता लगातार शेयर भी कर रहे है इससे साफ साफ पता चलता है कि इस पोल खोल साजिश के पीछे 1-2 कोई पत्रकार व कुछ भाजपा नेता व कार्यकर्ता शामिल हो सकते है जो अपनी राजनीतिक व निजी दुश्मनी के चलते यह सब कुछ कर व करवा रहे है !

क्यों चुप है चुनाव आयोग व जिला प्रशासन –

वही नगर निगम चुनावों को लेकर इस बार चुनाव आयोग भी काफी सखत नजर आ रहा है कल करनाल में राज्य मुख्य चुनाव आयुक्त डॉक्टर दलीप सिंह जिला सचिवालय में सभी प्रशाशनिक अधिकारियों की बैठक लेने पहुँचे थे जहाँ मीडिया से बातचीत में चुनाव आयुक्त ने बताया था की इस बार विशेष तौर पर सोशल मीडिया पर नजर रखी जाएंगी क्योंकि चुनावों में उम्मीदवार कई तरह के हथकंडे अपनाते है ,वही अब देखना यह होंगा की क्या इस खबर के बाद इस फेसबुक ID की जांच करवाई जाएंगी और इसके पीछे कौन कौन लोग है क्या उनके खिलाफ भी कोई मामला दर्ज किया जायेंगा !

देखें साजिश के तहत पूर्व मेयर को बदनाम करने की नीयत से डाली गई पोस्ट्स की फोटोज








 


शेयर करें।
  • 1.2K
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1.2K
    Shares
Advertisement









LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.