डॉ. राजीव गुप्ता की हत्या के तीनों आरोपियों की CCTV में आई साफ़ तस्वीर सामने , ITI चौक से कर रहे थे पीछा

0
Advertisement


शेयर करें।
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

  • राजीव गुप्ता की हुई हत्या के बाद जिले भर के डॉक्टर्स भी आये टेंशन में
  • नौकरी से निकालने के बाद से पवन के टारगेट पर था डॉक्टर
  • मुख्य आरोपी बोला- मुझे डॉक्टर की हत्या करने पर नहीं कोई पछतावा

( रिपोर्ट – कमल मिड्ढा ): दिसंबर 2018 में नौकरी से निकाले जाने के बाद डायलिसिस ऑपरेटर पवन के टारगेट पर डॉ. राजीव गुप्ता थे ! वह मौके की तलाश में था और उसने हत्या की प्लानिंग भी कई दिन से की हुई थी ,पुलिस इस केस में आरोपियों के दोस्तों से भी पूछताछ करेगी !

सी एम् सिटी करनाल में हुए हाई प्रोफाइल इस हत्याकांड में आरोपियों की पहचान व गिरफ़्तारी हुई CCTV कैमरों की वजह से

Advertisement


करनाल पुलिस दुकानों व चौकों पर लगे CCTV कैमरों की वजह से इतने बड़े हत्याकांड को 11 घंटे के अंदर सुलझा पाने में कामयाब रही ! आरोपियों को यूपी बॉर्डर के पास पकड़ा गया ! आरोपियों को पकड़ने के बाद पुलिस का कहना था कि अब तक की जांच में हत्या का कोई और कारण सामने नहीं आया है, वह हर तरह से तसल्ली कर चुके हैं ! कुछ संदिग्ध लोगों से पूछताछ चल रही है ,वही 7 दिन के रिमांड में कुछ नया सामने आता है तो उसको भी क्लियर कर दिया जाएगा !

 

 

 

सिटी थाना पुलिस ने ड्राइवर साहिल की शिकायत पर ही आरोपियों के खिलाफ हत्या सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है ! वही कानून विशेषज्ञों की माने तो ड्राईवर इस मामले में ही शिकायतकर्ता व मुख्य गवाह है जो एक कमजोर कड़ी भी है ,इसलिए इस केस में ड्राईवर का अपने ब्यान पर टिके रहना इस केस को मजबूत बनाता है ! हालाँकि डाक्टर राजीव गुप्ता के शरीर से मिली गोलियां व आरोपी के पास से मिली अवैध पिस्तौल भी एक काफी अहम् सभूत इस केस में है जो यह साभित कर सकता है की हत्या इसी हथियार से की गई है !

आरोपियों काे 7 दिन के रिमांड पर लिया हुआ – 2 दिन हुए पुरे

सीआईए वन टीम ने मुख्य आरोपी पवन वासी पाढ़ा हाल आरकेपुरम पार्ट-2 करनाल, रमन उर्फ सेठी वासी बड़ी मंगलपुर, शिवकुमार उर्फ सिबू वासी रामनगर हाल बड़ी मंगलपुर को गिरफ्तार किया हुआ है ,एसपी सुरेंद्र सिंह भौरिया ने बताया कि मुख्य आरोपी के साथ उसके दोनों दोस्तों को पता था कि डॉक्टर की हत्या की जानी है वही आरोपियों के अन्य दोस्तों से भी पूछताछ की जाएगी ,वही उन्होंने बताया की 7 दिन का पुलिस रिमांड खत्म होने के बाद ही कुछ कहाँ जा सकेंगा की इस मामले में उनके पास नया क्या कुछ सामने आया है अभी वह इस मामले में ज्यादा जानकारी नहीं दे सकते !

वही डॉक्टर परिवार के बिच प्रॉपर्टी मामले के चर्चाओं में सामने आने पर एसपी सुरेंद्र सिंह भौरिया ने बताया की ऐसा कुछ भी नहीं है वह सिर्फ कोर्ट में एक डेक्लरेशन केस डाला गया था जिसे गलत तरीके से दिखाया जा रहा है ,हत्या की वजह अभी तक जो सामने आई है वह नौकरी से निकाले जाना ही है ! पुलिस अधीक्षक ने बताया की डाक्टर परिवार की तरफ से कोर्ट में डाला हुआ केस आपसी सहमति से डाला गया प्रॉपर्टी ट्रांसफर का केस है !

वही गौरतलब है की 2 दिन पहले कोर्ट में पेशी के दौरान मुख्य आरोपी पवन दहिया ने मिडिया से बातचीत में कहा भी था कि उसको डॉक्टर की हत्या करने का कोई पछतावा नहीं है, इतनी बड़ी वारदात के बाद भी आरोपी पवन के चेहरे पर किसी प्रकार की टेंशन नहीं दिखी !

सीआईए वन टीम के एसआई रणबीर सिंह ने भी बताया था की 7 दिन के रिमांड के दौरान आरोपियों द्वारा हत्याकांड में उपयोग की गई मोटरसाइकिल, उस दौरान पहने गए कपड़े बरामद किए जाने हैं ! वही हत्या के अन्य कारणों को जानने के लिए भी पूछताछ की जाएगी ! वही यह पता भी किया जाएगा कि हत्या में इस्तेमाल हथियार कहां से लेकर आए थे ? हालांकि अभी रिमांड के दो दिन ही हुए हैं , शेष पांच दिन में पुलिस इस मामले में कोई और सुराग भी हासिल कर सकती है !

गौरतलब है की शनिवार काे अमृतधारा हॉस्पिटल के संचालक डॉ. राजीव गुप्ता अपने ड्राइवर साहिल के साथ पुराने अस्पताल से नए अस्पताल में आ रहे थे ! सेक्टर-16 ब्रेकर के पास प्लानिंग के तहत मुख्य आरोपी पवन ने अपने दोनों दोस्त शिवकुमार व रमन के साथ डॉक्टर को गोली मारकर फरार हो गए थे ! पकडे जाने के बाद मुख्य आरोपी ने कबूला कि डॉक्टर उसकी नौकरी नहीं लगने दे रहे थे, इसलिए उसको मारा है ! मुख्य आरोपी पवन नौकरी के लिए शहर में घूम रहा था, इसने कई अस्पतालों में रिज्यूम भी दिया, लेकिन उसकी नौकरी नहीं लगी ! आरोपी को शक था कि डॉक्टर ही उसका काम नहीं बनने दे रहा है ! इसलिए खुनस इतनी बढ़ गई कि डॉक्टर की रेकी करके उसने वारदात को अंजाम दे दिया ! लंबे टाइम से मेडिकल लाइन में गुजारने के कारण आरोपी पवन की डॉक्टरों और स्टाफ के साथ अच्छी जान पहचान भी थी !

आपसी सहमति से संपत्ति हस्तांतरण का केस

सोमवार को सोशल मीडिया पर डॉ. राजीव गुप्ता की पत्नी डॉ. ज्योति गुप्ता द्वारा कोर्ट में सिविल शूट दायर करने का मामला वायरल होता रहा, लेकिन इस मामले की तह में जाने पर पता चला कि यह केस आपसी सहमति से संपत्ति के हस्तांतरण का है ! वही डॉ. राजीव गुप्ता की रस्म क्रिया आज 10 जुलाई को मॉडल टाउन स्थित सतियां वाली मंदिर में दोपहर दो से तीन बजे हुई ,उनकी हत्या पर शहर की सामाजिक, धार्मिक, शैक्षणिक संस्थाओं और राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने भी गहरा शोक जाहिर किया है !


शेयर करें।
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Advertisement









LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.