डॉ. रामपाल सैनी ने संभाला डीएवी पीजी कॉलेज के प्राचार्य का कार्यभार

0
Advertisement



करनाल। डीएवी पीजी कॉलेज में नवनियुक्त प्राचार्य डॉ. रामपाल सैनी ने सोमवार को कार्यभार ग्रहण किया। इस मौके पर कॉलेज प्रबंधन कमेटी के प्रधान रमेश वर्मा ने शिरकत की। उन्होंने नवनियुक्त प्राचार्य को कार्यभार ग्रहण करने पर बधाई दी। नवनियुक्त प्राचार्य सैनी ने कहा कि वह सभी को साथ लेकर कॉलेज को बुलंदियों पर पहुंचाने का काम करेंगे। उन्होंने कॉलेज कमेटी के प्रधान रमेश वर्मा का धन्यवाद करते हुए कहा कि उन्हे जो जिम्मेदारी सौंपी गई है, वह उसका बखूबी निर्वाहन करेंगे। उन्होंने कहा कि उनकी कोशिश महाविद्यालय को प्रदेश के आदर्श कॉलेजों की सूची में लेकर जाने की है। इसके लिए उन्होंने सभी से सहयोग की अपील की।
इससे पहले डॉ. रामपाल सैनी पानीपत के एसडी पीजी कॉलेज में राजनीतिक विज्ञान विभाग में बतौर एसोसिएट प्रोफेसर अपनी सेवांए दे रहे थे। इसी के साथ वह हरियाणा एडिड कॉलेज एसोसिएशन के प्रदेश महासचिव के रूप में कार्य कर चुके हैं। वहीं शिक्षा के क्षेत्र में अपनी उपलब्धियों और विशिष्ट कार्यो के लिए अनेकों बार सम्मान पा चुके हैं। सैनी निम्स विश्वविद्यालय, चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय मेरठ के शौधार्थियों के सुपरवाईजर भी हैं। इसी के साथ सैनी कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय केे ऐकेडमिक कॉसिंल, कोर्ट एवं सर्वोच्च संस्था कार्यकारी परिषद के सदस्य भी रह चुके हैं। महाविद्यालयों में नियुक्ति के दौरान सब्जेक्ट एक्सपर्ट एवं वाइस चांसलर नोमिनी की भूमिका निभाते रहे हैं। इसके अलावा कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय की सभी यूएमसी, बीएड इंस्पेक्षन, सलेब्स रिवाइज कमेटी, एपीआई स्कॉर कमेटी के सदस्य भी रह चुके हैं। इनकी तीन किताबें भारत में पंथ निरपेक्षता, भारतीय समाज, राजनीतिक विचाारधारा प्रकाशित हो चुकी हैं। सैनी 20 से अधिक राष्ट्रीय एवं अंर्तराष्ट्रीय संगोष्ठियों में शोधपत्र प्रस्तुत कर चुके हैं, वहीं लोक साहित्य के साथ साथ अन्य सांस्कृतिक गतिविधियों में गहन रूचि रखते हैं। जिसका उदाहरण है कि डॉ. रामपाल सैनी के नेतृत्व में कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने अखिल भारतीय युवा महोत्सव में कई बार सफलता का परचम लहराया है।
ऐसे में डॉ. रामपाल सैनी का डीएवी कॉलेज के प्राचार्य के रूप में कार्यभार संभालना जिले की सांस्कृतिक गतिविधियों के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। वह पिछले दो दशक से कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय के साहित्यिक  और सांस्कृतिक निर्माण के लिए निरंतर सक्रिय रहे हैं। कार्यभार संभालने पर उन्होंने स्टाफ के साथ बैठक की। उन्होंने महाविद्यालय को शिखर पर ले जाने के लिए एक साथ मिलकर कार्य करने और विद्यार्थियों का मार्गदर्शन करने की बात कही।  उन्होंने कहा कि वह डीएवी कॉलेज को प्रदेश के मानचित्र पर चमकते हुए सूर्य की भांति देखने की इच्छा रखता हूं और मेरा प्रयास भी इसी क्रम में निरंतर जारी रहेगा। इसके लिए आप सभी के सहयोग की आवश्यकता रहेगी।  इस मौके पर हरियाणा एडिड कॉलेज एसोसिएशन के प्रधान नरेंद्र चाहर, एसडी कॉलेज पानीपत के प्राचार्य डॉ. अनुपम अरोड़ा, करनाल बार कॉंसिल के प्रधान निर्मल सिंह, एडवोकेट अमृत ला, शाहबाद से प्रो. डॉ. हरपाल सिंह, पानीपत से डॉ. बालकृष्ण शर्मा, डॉ. संगीता, डॉ. सुरेंद्र, नरेंद्र कोशिक और राजीव रंजन सहित अन्य मौजूद रहे।




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.