आयुक्त नगर निगम डॉ. प्रियंका सोनी ने ओल्ड सब्जी मण्ड़ी में जोन 2 के निरीक्षण के दौरान सफाईकर्मियों को किया संबोधित

0
Advertisement

स्वच्छ सर्वेक्षण को लेकर परीक्षा की घड़ी आ गई है। तैयारियों की कसौटी को परखने के लिए निगम आयुक्त डॉ. प्रियंका सोनी ने कडक़ती सर्दी के बीच जोन-2 में जाकर सफाईकर्ताओं की फौज को अगले 4 दिनों तक अपने शहर के मान-सम्मान के लिए पूरी तरह से मुस्तैद बने रहने का भाषण देकर उनमें ऊर्जा भरने का काम किया। गंदगी रूपी जंग को जीतने वाले हथियारों यानि साधनों की भी चैकिंग की गई, जो गिनती के हिसाब से पूरे और सही कंडीशन में थे। आयुक्त के साथ निगम के डी.एम.सी. रोहताश बिशनोई,ई.ओ. धीरज कुमार और डी.टी.पी. धर्मपाल सिंह भी मौजूद थे। उन्होने सफाईकर्ताओं से कहा कि स्वच्छता को लेकर सबसे महत्वपूर्ण भूमिका आपकी है, जो हर मौसम में गली, मोहल्ला, बाजार और सडक़ों को साफ करते हैं। लेकिन अब सर्वेक्षण के दौरान सफाई कार्य के साथ-साथ जागरूक रहने की भी जरूरत है। उन्होने कहा कि जो जागते हैं, उनकी कभी हार नहीं होती। शहर का हर कोना व चप्पा-चप्पा साफ रहना चाहिए। भारत सरकार की टीम आ रही है। शहर साफ-सुथरा होगा, तो अच्छे नम्बर मिलेंगे और करनाल का नाम पूरे भारत में होगा, इस बात का श्रेय आपको जाएगा।

Advertisement


उन्होने कहा कि यह सुनिश्चित रखें कि गीला और सूखा कूड़ा घर से लेकर रिक्शा-रेहड़ी और टिप्पर से प्लांट तक अलग-अलग ही जाना चाहिए। नालियों को साफ करके उससे निकलने वाले कचरे के ढेर नहीं रहने चाहिए, उसे साथ-साथ उठाएं। इन चीजों की जिम्मेदारी सफाई करने वालों के साथ-साथ दरोगाओं की भी रहेगी। उन्होने कहा कि सबके पास वर्दी, जूते, मास्क, ग्लोब्स व सफाई उपकरण रहने चाहिएं। आयुक्त ने बताया कि सफाईकर्ता भारत सरकार के टोल फ्री नम्बर 1969 पर कॉल करके अपने शहर की फीडबैक भी दे सकते हैं। फीडबैक को लेकर अपनी प्रतिक्रिया ई-मेल से भी दी जा सकती है। ई.ओ. धीरज कुमार ने बताया कि सडक़ो और बाजारों की सफाई के अतिरिक्त बस स्टैण्ड और रेलवे स्टेशन के आस-पास की सफाई रखना महत्वपूर्ण है। अपने-अपने एरिया में रैगूलर चक्कर लगाए। खुद भी जागें और दूसरों को भी जगाएं। शहर के शौचालय बिल्कुल क्लीन हों, दुकानदारों को भी समझाएं कि वे कूड़े-कचरे को डस्टबीन में ही डालें।

 

Advertisement


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.