CM मनोहर लाल ने प्रदेश के सभी DC के साथ वी.सी. कर कोरोना पर ली हर जिले की जानकारी , दिए जरूरी दिशा निर्देश ,देखें पूरी खबर

0
Advertisement



  • CM मनोहर लाल ने प्रदेश के सभी DC के साथ वी.सी. कर कोरोना पर ली हर जिले की जानकारी , दिए जरूरी दिशा निर्देश ,देखें पूरी खबर
  • कोविड से बचाव के लिए ग्रामीण क्षेत्रो में चलेंगे जन जागरण अभियान , कैम्प लगाकर ग्रामीणो के किए जाएंगे टैस्ट
  • लक्ष्ण वाले लोगों को अस्पतालों में करवाएंगे दाखिल , बचाव के लिए ग्रामीण स्वयं लगा सकते हैं जनता करवफ्यू
  • करनाल उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने वीसी में बताया कि करनाल के प्राईवेट अस्पतालों में बेड के लिए निर्धारित रेट हैं डिस्प्ले, खाद्य वस्तुओं की दरें तथा प्राईवेट एम्बूलेंस के रेट भी किए गए हैं तय।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गुरूवार को विडियो कॉन्फ्रैंसिंग के जरिए प्रदेश के जिला उपायुक्तों के साथ वार्ता करते कहा कि कोरोना का प्रभाव अब तक शहरो में था, अब ग्रामीण क्षेत्रों में भी इस बीमारी ने पांव पसारने शुरू कर दिए हैं, इसके लिए पूर्व पंचायत प्रतिनिधियों को साथ लेकर जन जागरण अभियान चलाए जाएं, जिसमें लोगों को कोरोना का संदेह या लक्ष्ण दिखाई देने पर टैस्ट करवाने की सलाह, स्वास्थ्य विभाग व आयुष स्कीमो की जानकारी और सोशल डिस्टैंसिंग जैसी कोरोना से बचाव की हिदायतें बताई जाएं।

गांव-गांव में कोरोना की प्रारम्भिक जांच के लिए कैम्प लगाएं, जिसमें मामूली लक्ष्ण व एसिम्टोमेटिक (स्पर्शोन्मुखी) का पता लगाया जा सके तथा कोरोना संक्रमित और गम्भीर दिखाई देने वाले मरीजों को समय पर अस्पताल में दाखिल करवाया जा सके। इस काम को करने वालों को ट्रेनिंग दें और जरूरी किट्ïस व लोगों को पढऩे के लिए साहित्य वितरण का भी काम किया जाए।

Advertisement


बोले कि ग्रामीण स्वयं जनता कफर््यू लगा सकते हैं। कोविड का पता लगाने के लिए उन्होंने लेटेंट यानि पता नहीं और पेटेंट यानि टैस्ट करवा लिया है, दो तरह के शब्दों का उल्लेख किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मौजूदा हालात के दृष्टिïगत शिक्षा जैसे ऐसे विभाग, जिनमें ज्यादा काम नहीं है, के कर्मचारियों की सेवाएं लेने के लिए उन्हें हैल्थ विभाग से जोड़ा जाएगा। ऐसे 15 से 20 व्यक्तियों को गांव में उतार सकते हैं। कोविसिल्ड और कोवैक्सीन की उपलब्धता बारे उन्होंने बताया कि 18 प्लस के लिए करीब 3 लाख डोज़ प्राप्त हो गई है, इतनी ही ओर प्राप्त होने की उम्मीद है, जबकि 45 से ऊपर के लिए भी 3 लाख वैक्सीन उपलब्ध हो गई है, 18 व 45 प्लस वैक्सीनेशन के रजिस्टर्ड सभी व्यक्तियों को फ्री मिलेगी।

वीसी में मुख्यमंत्री ने उपायुक्तों से कहा कि जिन जिलो में पॉजीटिव रेट ज्यादा है, वहां टैस्ट की संख्या बढ़ाई जाए, जल्दी डिटैक्स होंगे तो ईलाज भी जल्दी सम्भव होगा। उन्होंने बताया कि जिलो में आई.सी.यू. बैड बढ़ाए जाएंगे, इसके लिए मेडिकल के पी.जी. स्टूडेंट व रेजिडेंट्ïस को ज्वाईन करने को कहा गया है, कई जिलो में इनकी ज्वाईनिंग हो गई है, शेष में भी जल्द होगी। उन्होंने बताया कि करनाल के लिए मुलाना मेडिकल कॉलेज और रोहतक से जल्द ही मेडिकल विद्यार्थी आ जाएंगे।

सी.एम. ने बताया कि निजी अस्पतालों को ऑडिट किया जाए और डिस्चार्ज की संख्या बढ़ाई जाए, इसके लिए टीमे बनाई जाए। निरीक्षण के दौरान जो व्यक्ति स्टैपडाउन या ठीक हो रहे हैं, उन्हे डिस्चार्ज करवाएं।

ऑब्जर्वेशन के लिए 6-7 दिन कोविड केयर सेंटर में शिफ्ट कर सकते हैं। ऑक्सीजन बेड, आई.सी.यू. और वेंटीलेटर मरीजो के लिए होने चाहिए। मुख्यमंत्री ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की आई.टी. शाखा की ओर से एचआर हील नाम से एक पोर्टल बनाया गया है, जिसमें प्राईवेट और सरकारी अस्पताल रोजाना सूचना अपडेट करेंगे, जिसमें दिनवार दाखिल मरीज, कितने डिस्चार्ज हुए, कितने नए शामिल हुए, कितने आई.सी.यू. में हैं, का विवरण देंगे।

सभी जिलो से इस तरह के आंकड़ें मिलने पर व्यवस्था को ओर मजबूत किया जाएगा। ऑक्सीजन और बेड इत्यादि का असंतुलन नहीं होगा और मरीजो का नुकसान भी नहीं होगा।

उन्होंने उपायुक्तों से कहा कि निजी अस्पतालो के लिए बिस्तर व वेंटीलेटर के रेट तय किए गए हैं, जिला निगरानी समीति के सदस्य समय-समय में अस्पतालों में जाकर निरीक्षण कर सकते हैं, बेड के रेट अस्पतालों के बाहर डिस्प्ले होने चाहिएं। इसी प्रकार खाद्य वस्तुओं के रेट भी तय किए गए हैं, जो अस्पताल या दुकानदार तय रेट से ज्यादा चार्ज करे, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए।

मुख्यमंत्री ने उपायुक्तों से जिलो में निगरानी समीति का गठन, प्राईवेट एम्बूलेंस की रेट लिस्ट, अब तक कोविड के कितने सेम्पल लिए गए, वैक्सीनेशन की स्थिति और कोई योजना बनाने का काम किया गया है, जैसी जानकारी ली।

करनाल के उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने बताया कि सभी अस्पतालो में बेड चार्जिज़ की लिस्ट को डिस्प्ले करवाया गया है, अस्पतालों के निरीक्षण के लिए निगरानी समीति भी बना दी गई है। आवश्यक वस्तुओं के रेट तय करके उनका डिस्प्ले भी करवा दिया गया है व प्रतिदिन करीब 3 हजार कोरोना टैस्ट किए जा रहे हैं। उपायुक्त ने बताया कि मेडिकल शिक्षा के पीजी स्टूडेंट के करनाल में आने के लिए आई.सी.यू. के 30 अतिरिक्त बेड पहले ही तैयार कर लिए गए हैं, 20 और तैयार कर लिए जाएंगे।

वीसी में पुलिस अधीक्षक गंगाराम पुनिया, नगर निगम आयुक्त विक्रम, एसडीएम आयुष सिन्हा, एसीयूटी संदीप सिंह, एसडीएम घरौंड डॉ. पूजा भारती, एसडीएम इन्द्री सुमित सिहाग, नगराधीश अभय जांगड़ा तथा सिविल सर्जन डॉ. योगेश शर्मा उपस्थित रहे।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.