करनाल पुलिस को मिली तीसरी आँख, मुख्यमंत्री ने किया उद्घाटन

0
Advertisement


शेयर करें।
  • 863
  •  
  •  
  •  
    863
    Shares

मुख्यमंत्री हरियाणा मनोहर लाल खटृटर द्वारा नगर निगम करनाल की मदद से स्थापित 31 चैंकों पर 129 कैमरों व एल.सी.डी. स्क्रीन और इनकी कंट्रोल युनिट का पुलिस कंट्रोल रूम करनाल में उदघाटन किया। अब पूरे शहर को जिला पुलिस कंट्रोल रूम से लाईव देखा जा सकता है। इनसे पुलिस को अपराध नियंत्रण व ट्रैफिक नियंत्रण में काफी मदद मिलेगी।

जिला पुलिस करनाल द्वारा नगर निगम करनाल की मदद से करनाल में सुरक्षा व्यवस्था में ओर सुधार लाने की दृष्टि से सी.सी.टी.वी. कैमरे लगाने का कार्य सरकार की स्वीकृति उपरान्त पूर्ण कर दिया गया है। इस कार्य में 31 अलग अलग स्थानों पर 104 बाक्स टाइप कैमरे जिनकी रेंज 400 से 500 मीटर है तथा 25 पी.टी.जैड. कैमरे लगाए गए हैं।

Advertisement


पी.टी.जैड. कैमरों को कंट्रोल रूम में बैठकर ही 360 डिग्री के एंगल में घुमाया और जूम इन व जूम आउट किया जा सकता है। इन सभी कैमरों का कंट्रोल रूम सै0-12 में एस.पी. आफिस में स्थापित किया गया है। जहां से 24 घंटे शहर की निगरानी की जा सकेगी और 25 से 30 दिनों की रिकार्डिंग भी उपलब्ध रहेगी।


कंट्रोल रूम में जायजा लेते मुख्यमंत्री

कंट्रोल रूम में सर्वर, सैन तथा 12 एल.ई.डी. स्क्रीन लगाए गए है, जिसमें सभी कैमरों की लाइव फुटेज देखी जा सकेगी। कंट्रोल रूम में किसी तरह की खराबी आने की स्थिती से निपटने के लिए प्रत्येक कैमरे में 32 जी.बी. तक की विडियो रिकार्डिंग सुरक्षित रखने की क्षमता का प्रावधान किया गया है।

इस कार्य में 30 कि.मी. ओ.एफ.सी. केबल डाली गई है तथा दो स्थानों से वायरलेस कनेक्टिविटी दी गयी है। यह कार्य जनवरी 2018 में शुरू कर मार्च 2018 तक पूरा कर लिया गया है। इस कार्य पर अभी तक 6.53 करोड़ रूपये खर्च किए गए हैं तथा अगामी 06 वर्ष तक देखभाल का कार्य भी कैमरे लगाने वाली एजेंसी अर्थात मेसेर्ज दूर संचार सिस्टम द्वारा किया जायगा जिस पर 2.98 करोड़ खर्च आएगा। नगर निगम करनाल द्वारा यह कार्य पूर्ण कर पुलिस विभाग को सौंप दिया गया है। अब पुलिस विभाग मेसेर्ज दूर संचार की मदद लेकर इस पूरे सिस्टम को चलाएगा।


शेयर करें।
  • 863
  •  
  •  
  •  
    863
    Shares
Advertisement













LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.