सिविल लाईन थाना पुलिस ने सुलझाई ब्लाइंड मर्डर केस की गुत्थी

0
Advertisement


शेयर करें।
  • 399
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    399
    Shares

प्रबंधक थाना सिविल लाईन करनाल निरीक्षक मोहनलाल को सुचना प्राप्त हुई कि रेलवे रोड़ करनाल पर खालसा कालेज के पास बनी नेकी की दीवार के साथ किसी अज्ञात व्यक्ति का शव पड़ा हुआ है। सुचना मिलते ही प्रबंधक थाना अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे व शव को अपने कब्जे में ले लिया, शव को षिनाखत के लिए कल्पना चावला मैडीकल कालेज के शव ग्रह में रखा गया और थाना सिविल लाईन करनाल में मुकदमा नं0-1073/29.12.18 धारा 302 भा.द.स. के तहत दर्ज किया गया।

शव की षिनाखत न हो पाने के कारण दिनांक 01.01.19 को शव का पोस्टमार्टम करवाकर अंतिम संस्कार किया गया। लेकिन दूसरी तरफ जहां पर शव मिला था, उस स्थान के आसपास लोगों से उसके संबंध में निरंतर पूछताछ की जा रही थी और दिनांक 02.01.19 को एक व्यक्ति ने मृतक की पहचान रिंकू उर्फ लंबू वासी पंजाब के रूप में की।

Advertisement


निरीक्षक मोहनलाल के निरंतर प्रयासों व जांच के माध्यम से धीरे-धीरे हत्या की गुत्थी से पर्दा हटने लगा और सामने मालुम हुआ कि जिस दिन रिंकू की हत्या हुई, उसी दिन नरेन्द्र पंडित वासी जींद और कैलाष वासी रामनगर का शराब पिने के बाद मृत्क रिंकू के साथ काफी देर तक झगड़ा हुआ था, लेकिन बाद में वे दोनों वहां से चले गए और कुछ देर बाद रिंकू की हत्या की खबर फैल गई।

प्रबंधक थाना निरीक्षक मोहनलाल के निर्देष अनुसार उनकी टीम ने नरेन्द्र पंडित व कैलाष की तलाष शुरू कर दी और दिनांक 02.01.19 को पुलिस टीम द्वारा नरेन्द्र पंडित को रेलवे स्टेषन के पास से काबू कर लिया गया, जिसे हिरासत में लेकर पुछताछ की गई तो उसने अपना गुनाह कबुल कर लिया। आरोपी ने बताया कि शराब पिने के बाद शैड में सोने को लेकर उसका व उसके साथी कैलाष का रिंकू के साथ झगड़ा शुरू हो गया था और झगड़े के दौरान उन्होंने रिंकू के उपर ईंटों से वार किए, जिससे उसकी मौत हो गई। पुलिस टीम द्वारा आज दिनांक 03.01.19 को आरोपी को अदालत के सामने पेषकर जेल भेज दिया है व उसके दूसरे साथी की तलाष जारी है, जिसे बहुल जल्द गिरफतार किया जाएगा।


शेयर करें।
  • 399
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    399
    Shares
Advertisement









LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.