करनाल शेखपुरा जागीर गांव में बिजली चोरी पकड़ने गई बिजली विभाग की टीम को ग्रामीणों ने बनाया बंधक

0
Advertisement

करनाल शेखपुरा जागीर गांव में बिजली चोरी पकड़ने गई बिजली विभाग की टीम को ग्रामीणों ने बनाया बंधक ,पुलिस भी नहीं कर पाई कुछ।

Advertisement


हम आपको बता दे कि आज सुबह 5 बजे के करीब बिजली विभाग की टीम दीवारे कूदकर पहुंची थी गाव के घरो में बिजली चोरी पकड़ने लेकिन ग्रामीणों ने सभी को बंधक बनाकर जाटो चौपाल के कमरे में किया बंद, पुलिस भी बनी मूकदर्शक, डर के मारे बिजली कर्मियों लगाए बैठे है अंदर से कुंडी, सभी बिजली कर्मी डर के साए में !

बिजली चोरी का छापा मारना और बिजली चोरी गाव में पकड़ना बिजली विभाग की टीम को पड़ा महंगा, तडके सुबह 5 बजे के करीब बिजली विभाग की टीम गाव शेखपुरा जागीर में छतो की दीवार कूदकर घरो में बिजली चोरी का छापा मारने गई थी लेकिन उन्हें क्या पता था यह कदम उठाना उन्हें महंगा पड़ जाएगा और उन्हें कमरे मै बंद होना पड़ेगा ! मामला करनाल के गाव शेखपुरा जागीर का है जहा पर अभी तक बिजली कर्मी जाटो चोपाल के कमरे में बंद है बाहर पुलिस कर्मी है लेकिन वो भी मूकदर्शक बने हुए है क्यूंकि ग्रामीणों भारी संख्या में मोके पर मोजुद है !

ग्रामीणों का आरोप है की गाँव में पहले ही बिजली नही आती है परसों रात को भी गाव में बिजली नही आई और यह बिजली कर्मी घरो की छत कूदकर घरो में छापा मारने पहुंच जाते है हमारी भी कोई प्राईवरसी है ! हमारी टीम ने भी बहुत मुश्किल से यह खबर कवर की ग्रामीणों में भारी गुस्सा भरा हुआ था !

वही बिजली विभाग के कर्मीयो कहना है की सुचना मिलने पर 5 बजे के करीब बिजली चोरी का छापा मारने हम यहा गाव में पहुंचे थे लेकिन हमे धक्का देकर पहले मारपीट कर इस कमरे में बंद कर दिया और हमारे फोन भी हमसे छीन लिए गए, हमने अपने एक फोन से कैसे तैसे करके अधिकारियो को फोन किया हुआ है और 3 घंटे होने बाले है कमरे में बंद को इस गाव के लाइन लोस 50 परसेंट से ज्यादा है!

7 के करीब बिजली कर्मी अंदर कमरे में बंद है जिसमे दो के करीब जेई भी शामिल है ! अब ग्रामीणों के खोफ के मारे बिजली कर्मियों ने अब अंदर से कमरे को कुंडी लगाई हुई है ताकि हमारे साथ कोई अंदर घुसकर मारपीट ना हो सके वही पुलिस भी मोके पर पहुंची हुई है लेकिन कुछ नही कर पा रही है !

जब यह वाक्य हुआ तब पुलिस के कुछ सिपाही भी बिजली विभाग की टीम के साथ लेकिन वह कुछ ना कर पाए, ग्रामीणों की माने तो ग्रामीणों का कहना है की हम तो बाहर आने दे रहे है लेकिन यह खुद ही नही आ रहे बाहर अंदर से कमरे को कुंडी लगाए हुए है !

Advertisement


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.