ऐतिहासिक होगा अग्रवाल समाज का परिचय सम्मेलन : गोयल

0
Advertisement


शेयर करें।
  • 5
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    5
    Shares

आगामी 31 मार्च को करनाल के रामलीला भवन में होने वाला परिचय सम्मेलन एक ऐतिहासिक परिचय सम्मेलन होगा जिसमें हरियाणा के अलावा आसपास के राज्यों से भी सैकड़ों की तादाद में अग्रवाल युवक युवती भाग लेंगे। यह व्यक्तव्य अखिल भारतीय अग्रवाल समाज हरियाणा के अध्यक्ष डा. राजकुमार गोयल ने दिया।

गोयल अग्रवाल युवा संगठन के प्रधान रमेश जिन्दल के कार्यालय पर अग्रवाल समाज के पदाधिकारियों की एक बैठक को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर रमेश जिन्दल, अरूण अग्रवाल, मुकेश अग्रवाल, भूषण गोयल, आयुष मंगला, कुलदीप गुप्ता, सुरेन्द्र जैन, प्रवीण गर्ग, विनय सिंगला इत्यादि प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

Advertisement


इस अवसर पर सम्मेलन के आयोजक रमेश जिन्दल ने कहा कि इस परिचय सम्मेलन को लेकर प्रत्याशियों में अच्छा खासा उत्साह देखने को मिल रहा है। अभी तक 500 के करीब पंजीकरण फार्म संस्था को प्राप्त हो चुके हैं और लगातार पंजीकरण की संख्या बढ़ रही है। जिन्दल ने बताया कि इस सम्मेलन के लिए अंतिम तिथि 28 फरवरी थी जिसे बढ़ाकर 10 मार्च कर दिया गया है। अब प्रत्याशी 10 मार्च तक अपना पंजीकरण करवा सकेंगे।

इस अवसर पर अरूण अग्रवाल और मुकेश अग्रवाल ने कहा कि आज जब समाज में अपनापन समाप्त होता जा रहा है ऐसे में असंख्य अभिभावक अपने विवाह योग्य बेटे बेटियों के लिए उचित रिश्ता तलाशनें की बाट जोह रहे हैं ऐसे में इस प्रकार के परिचय सम्मेलन सार्थक सिद्व हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि अग्रवाल युवा संगठन करनाल द्वारा आयोजित इस सम्मेलन में हरियाणा व आसपास के राज्यों से डाक्टर, इंजीनियर, आईएएस, एमबीए के अलावा बड़े बड़े व्यवसायों से जुड़े सैकड़ों विवाह योग्य अग्रवाल युवक युवतियां भाग लेकर अपने जीवन साथी का चयन करेंगे। इस अवसर पर भूषण गोयल, प्रवीण गर्ग व विनय सिंगला ने कहा कि परिचय सम्मेलन के पंजीकरण के लिए आवश्यक है युवक की आयु 21 वर्ष तथा युवती की आयु 18 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि परिचय सम्मेलन आज के समय की जरूरत बन कर रह गया है। इस प्रकार के परिचय सम्मेलन से जहां मनपसंद रिश्ता मिलने में आसानी हो जाती है वहीं दहेज प्रथा जैसी बिमारी को रोकने में भी ये परिचय सम्मेलन सहायक होते है। इस सम्मेलन में भाग लेकर विवाह के लिए लड़का लड़की ढूंढऩेे से लेकर देख दिखाई जैसी बहुत सी परेशानियों से बचा जा सकता है।

इसके अलावा जिन घरों में शादी के कुछ साल बाद पति या पत्नी की आकस्मिक मौत हो जाती है या फिर अवांछित कारणों से तलाक की घटना घट जाती है ऐसे में पुर्नविवाह का स्थायी समाधान भी परिचय सम्मेलन ही है। इन सभी आवश्यकताओं के मददेनजर करनाल में यह विशाल परिचय सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है।


शेयर करें।
  • 5
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    5
    Shares
Advertisement









LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.