अधिकारी का तबादला करके सरकार अपने गुनाहों को छुपा नहीं सकती – दीपेंद्र हुड्डा

0
Advertisement



  • सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने शहीद किसान स्व. सुशील काजल के घर पहुँचकर श्रद्धांजलि अर्पित की और परिवारजनों से मिलकर उन्हें ढांढस बंधाया
  • बसताड़ा टोल पहुंचे दीपेन्द्र हुड्डा ने किसानों से मिलकर उनका हाल जाना। किसानों के साथ हुई क्रूरता की कड़े शब्दों में निंदा की
  • बेक़सूर किसानों के सिर फोड़ने का आदेश देने वाला SDM नये कृषि कानूनों के तहत किसानों के साथ न्याय कैसे करेगा – दीपेन्द्र हुड्डा
  • मुख्यमंत्री ने SDM का बचाव करके साबित कर दिया कि लाठीचार्ज सरकार के इशारे पर हुआ – दीपेन्द्र हुड्डा
  • जो अधिकारी सरकार की नजरों में नंबर बनाने के लिये जनता पर अत्याचार कर रहे वो याद रखें प्रजातंत्र में सरकारें बदलती रहती है – दीपेन्द्र हुड्डा

करनाल, 3 सितम्बर। सांसद दीपेंद्र हुड्डा आज बसताड़ा टोल पहुंचे और किसानों से मिलकर उनका हाल जाना। उन्होंने किसानों पर हुए बर्बर लाठीचार्ज की कड़े शब्दों में निंदा की और किसानों को भरोसा दिया कि वे इस लड़ाई में किसानों के साथ खड़े हैं।

सांसद दीपेन्द्र ने लाठीचार्ज में बुरी तरह चोटिल होकर शहीद हुए किसान स्व. सुशील काजल के रायपुर जट्टान स्थित निवास पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की और परिवारजनों से मिलकर उन्हें ढांढस बंधाया। उन्होंने कहा कि किसान परिवार अकेला नहीं है हम सभी परिवार के साथ हैं। इसके बाद उन्होंने बातचीत में कहा कि किसानों के सिर फोड़ने का आदेश देने वाले अधिकारी का तबादला करके सरकार अपने गुनाहों को छुपा नहीं सकती।

Advertisement


नये कृषि कानूनों पर किसानों को क्यों आपत्ति है ये करनाल की घटना से स्पष्ट हो गया है। उल्लेखनीय है कि नये कृषि कानूनों में किसानों की आपत्तियों या विवाद के निपटारे के लिये SDM को अधिकृत किया गया है। ऐसे में बेक़सूर किसानों के सिर फोड़ने का आदेश देने वाला SDM विवाद की स्थिति में किसानों के साथ न्याय कैसे करेगा?

सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि किसान विरोध में अंधी हो चुकी BJP-JJP सरकार ने क्रूरता की सारी हदें पार कर दी हैं। यह कटु सत्य है कि बीजेपी जेजेपी सरकार, उसके नेता व अधिकारी किसानों को उकसाने की हरकतें कर रहे हैं और ये बात जगजाहिर है।

उन्होंने करनाल में किसानों पर बर्बर लाठीचार्ज का आदेश देने वाले एसडीएम के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय तबादला किये जाने पर आश्चर्य जताते हुए कहा कि ऐसा करके सरकार किसानों की आंखों में धूल झोंकने का काम कर रही है। इससे ये प्रमाणित होता है कि किसानों पर लाठीचार्ज सरकार के इशारे पर हुआ है और खुद मुख्यमंत्री ने SDM का बचाव करके साबित कर दिया है कि सरकार इसमें शामिल है।

उन्होंने कहा कि ट्रांसफर रुटीन प्रशासनिक काम-काज का हिस्सा होता है, आरोपी अधिकारी के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई नहीं होना स्पष्ट प्रमाण है कि हरियाणा की बीजेपी-जेजेपी सरकार खुद ही चाहती है कि किसानों को उकसाया जाए।

दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि करनाल मे शांतिपूर्ण धरने पर लाठीचार्ज व उसके बाद हुई भाई सुशील काजल की दु:खद मृत्यु के बाद अब यह मात्र 3 कृषि कानून वापिस लेने की लड़ाई ही नहीं, बल्कि किसान के स्वाभिमान बनाम सत्ता के अभिमान की भी लड़ाई बन चुकी है। हम इस लड़ाई तो अंजाम तक पहुंचाकर ही दम लेंगे।

दीपेन्द्र हुड्डा ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि जो अधिकारी सरकार की नजरों में नंबर बनाने के लिये जनता पर अत्याचार कर रहे हैं, उनको याद रखना चाहिए कि प्रजातंत्र में सरकारें बदलती रहती हैं। उन्होंने कहा कि सरकारी अमले द्वारा लगातार उकसाने की हरकतों के बावजूद शांति से बैठे किसान प्रशंसा के पात्र है।

उन्होंने अपील करी कि किसान शांति-संयम से रहें। लोकतंत्र में शांति, संयम ही सबसे बड़े हथियार है। हरियाणा सरकार के जानबूझ के उकसाने के प्रयासों को किसी हाल में सफल नहीं होने देना है।

इस दौरान विधायक बलबीर बाल्मिकी, पूर्व विधायक नरेंद्र सांगवान, पूर्व विधायक सुमिता सिंह, पूर्व विधायक राकेश कंबोज, पूर्व विधायक जिलेराम शर्मा, पूर्व विधायक सुल्तान सिंह जड़ोला, पूर्व विधायक भीमसेन मेहता,घरोंडा से चुनाव प्रत्याशी रहे अनिल राणा, करनाल से चुनाव प्रत्याशी रहे सरदार तिरलोचन सिंह, सुरेन्द्र नरवाल, मैनपाल राणा, रघुबीर संधू, रणपाल सिन्धु सहित अनेकों गणमान्य लोग मौजूद रहे।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.